बॉर्डर बना राजनीति का केंद्र, 8-10 पार्टियों के नेता पहुंचे किसानों से मिलने

opposition reached the border
image source - google

Farmers Protest: दिल्ली बॉर्डर राजनीति का केंद्र बनता जा रहा है। किसानों के समर्थन में एक बार फिर जैसे ही भारी संख्या में लोग बॉर्डर पर पहुँचने लगे वैसे ही विपक्ष के कई नेता भी बॉर्डर पहुँच रहे है। इस बीच गाज़ीपुर बॉर्डर पर बैरिकेडिंग के पास लगाए गईं कीलें हटाई जा रही हैं।

SAD नेता हरसिमरत कौर ने कहा कि यहां 3 किलोमीटर तक बैरिकेडिंग लगी हुई हैं। ऐसे में किसानों की क्या हालत हो रही होगी। हमें भी यहां रोका जा रहा है हमें भी उनसे मिलने नहीं दे रहे।

हम 8-10 पार्टियां किसानों से मिलने गाज़ीपुर बॉर्डर जा रही हैं जहां पर किले,13 लेवल की बैरिकेडिंग की गई है, इतना तो हिंदुस्तान के अंदर पाकिस्तान बॉर्डर पर भी नहीं है। हमें संसद में भी इस मुद्दे को उठाने का मौका नहीं दिया जा रहा है जो कि सबसे अहम मुद्दा है।

किसान आंदोलन पर अमेरिका की पहली प्रतिक्रिया

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत हरियाणा के जींद ज़िले में महापंचायत में हिस्सा लेने पहुंचे। यहाँ उन्होंने कहा कि पंचायत में मंच टूट गया, अच्छा हुआ, भाग्यवान लोगों के मंच टूटते हैं…ये लोग भी वही हैं, ये ट्रैक्टर भी वही हैं। वचन वही है हमारे 40 लोग ही फैसला करेंगे, सरकार से बातचीत करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here