इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में नेशनल यूथ फेस्टिवल के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन

national youth festival at indira gandhi pratishthan

आज इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के विवेकानंद हॉल में आयोजित होने वाले नेशनल यूथ फेस्टिवल के अवसर पर वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना ने संस्कृतिक कार्यक्रम का दीप जलाकर शुभारंभ किया। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर उनके साथ गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री श्री सुरेश राणा तथा खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री उपेंद्र तिवारी, तथा अल्पसंखयक कल्याण एवं सिंचाई राज्य मंत्री श्री बलदेव सिंह औलख भी मौजूद थे।

इस अवसर पर वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना ने राष्ट्रीय युवा महोत्सव के भव्य आयोजन की प्रशंसा की उन्होंने इसके लिए आयोजक मंडल को भी बधाइ दी। श्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी के नाम लेने से ही मन मस्तिष्क में एक नई स्फूर्ति और विचार आ जाता है। देश और दुनिया में जितने भी समाज सुधारक हुए, जितने भी लोगों ने समाज को कोई न कोई दिशा दी है सभी ने पुरुषार्थ को सबसे अधिक महत्व दिया है।

शुरू हुई ‘ई गन्ना प्रणाली’, मुख्यमंत्री ने किया का उद्घाटन

उन्होंने कहा की गीता में भी कहा गया है की किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति में 80 प्रतिशत योगदान पुरुषार्थ होता है। श्री सुरेश कुमार खन्ना कहा कि स्वामी विवेकानंद जी ने कहा है कि ऐसी कोई बात जो वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार तर्क की कसौटी पर खरी नहीं उतरती हों उन्हें नहीं मानना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्षों से हम जिन रूढ़िवादी परंपराओं में जीते आए हैं अगर वर्तमान समय में हम उन्हें तर्कसंगत रूप से नहीं पाते हैं तो उनको मानने के लिए बाध्य नहीं होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी ने अपने ओजस्वी वाणी से ना केवल हिंदुस्तान को बल्कि पूरी दुनिया को प्रभावित किया और एक कीर्तिमान स्थापित किया। विवेकानंद जी जैसे महापुरुष की शिक्षाओं को हमें अपने जीवन में आत्मसात करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि व्यक्ति अपना कैरेक्टर रोल खुद लिखता है, हर आदमी अपनी किस्मत को खुद बनाता है। इतिहास ऐसे महापुरुषों से भरा है जिन्होंने उदाहरण पेश किए हैं। जिन्होंने पदचिन्ह बनाए जिनके द्वारा दिखाए रास्ते पर चलकर सैकड़ों, हजारों लोगों ने कामयाबी हासिल किया है।

वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री ने कहा कि युवाओं को भाग्य और मुकद्दर जैसे शब्द को अपनी डिक्शनरी से निकाल देना चाहिए, यदि लक्ष्य प्राप्ति में कोई चीज प्रभावित करती है तो उसको करने दो। मेरा विश्वास है कि नेचर हमेशा पॉजिटिव रोल अदा करती है। जो भी लक्ष्य तय करें उसकी प्राप्ति में पूर्ण समर्पण के साथ काम करते हैं तो निश्चित रूप से भगवान हमारी मदद करता है। हमारा उद्देश्य स्पष्ट होना चाहिए, उद्देश्य प्राप्त करने के लिए जो रास्ता हमने चुना है उसमें क्लियरटी भी होनी चाहिए। निश्चित रूप से अगर हम इसको अपने जीवन में आत्मसात करेंगे तो हमें सफलता जरूर मिलेगी।

इस अवसर पर गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री श्री सुरेश राणा ने कहा कि भारत के युवा देश के उज्जवल भविष्य के लिए काम कर रहे है, युवा पीढ़ी भारत को महान बनाना चाहती है और स्वामी विवेकानंद जी के सपने को साकार बनाना चाहती है। उन्होंने देश के विभिन्न कोनों से आए नौजवानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आपके मन में जो सपना है, कल्पना है आप उन सपनों को साकार करने में सफल साबित होंगे यदि आप उसके प्रति पूर्ण रूप से समर्पित हैं। विवेकानंद जी के द्वारा शिकागो में आयोजित विश्व धर्म सभा में दिए गए भाषण की पूरी दुनिया में आज भी चर्चा होती है। उन्होंने देश के विकास और देश को महान बनाने में युवाओं को योगदान देने के लिए प्रोत्साहित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here