लखनऊ में 3 घंटे तक चली मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक

google

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद पहली बार ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक हुई। मुस्लिम पक्षकारों की यह बैठक लखनऊ के मुमताज डिग्री कॉलेज में आयोजित की गई थी जो 3 घंटे तक चली।

google

जमीयत उलेमा हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने बैठक के बाद कहा कि “हम फैसले के खिलाफ रिव्यू पिटिशन दायर करेंगे। हमें मालूम है रिव्यू पिटिशन का हाल क्या होना है लेकिन फिर भी हमारा यह हक है”।

google

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक के बाद प्रेस वार्ता में बयान दिया गया है कि बोर्ड अयोध्या मामले को लेकर रिव्यू फ़ाइल करेगा। बाबरी मस्जिद के मामले को लेकर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड संतुष्ट नही है और शरीयत में है कि एक बार जहां पर मस्जिद बन जाती है फिर वहां पर मस्जिद ही रहती है। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने आगे कहा कि मस्जिद के बदले में हम दूसरी जगह ज़मीन या रुपया पैसा नही ले सकते हैं और 5 एकड़ ज़मीन की पेशकश को मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड लेने से इनकार करता है। प्रेस कांफ्रेंस में बोर्ड ने आगे कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ऐसा कोई भी काम नही करेगा जो सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ हो।

 

google

फैसले के बाद योगी कैबिनेट की बैठक, हो सकते हैं बड़े फैसले

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की इस अहम बैठक में AIMPLB के अध्यक्ष राबे हसन नदवी, वकील ज़फरयाब जिलानी, AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी सहित अन्य पदाधिकारियों ने शिरकत किया।