मुकेश अम्बानी के समधी प्राइमरी स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था सुधारेंगे

● अब शिक्षकों से सिर्फ पढ़ाने का कार्य लिया जायेगा।
● अभी तक पोलियो ड्राप,मिड डे मिल,वोटर लिस्ट,जनगणना,चुनाव करवाना आदि कार्य लिए जाते थे।
● सरकार ने मुकेश अम्बानी के समधी को दिया प्राइमरी स्कूलों की जिम्मेदारी।
● विद्यालयों की शिक्षा व्यवस्था सुधारना उद्देश्य।

उत्तरप्रदेश के प्राइमरी स्कूलों को सरकार ने प्राइवेट हाथों में देने का फैसला कर लिया है और इसकी शुरुआत भी कर दी गयी है। यूपी सरकार ने प्रयागराज में बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों को निजी हाथों में सौप दिया है। प्रधानाचार्य को निर्देश दिए गए है की वो अपना पूरा सहयोग दे।

बाराबंकी स्थित खस्ताहाल स्कूल हुआ बारिश का शिकार

एनजीओ चलाएंगे स्कूल

16 सितम्बर को सरकार द्वारा जारी किये गए निर्देश अनुसार प्रथम शिक्षण संस्थान कक्षा 4 व 5 एनजीओ भाषा और गणित की कक्षा चलाएंगे। यूपी सरकार द्वारा प्राइमरी स्कूलों को निजी हाथों में सौपने का ये फैसला इसलिए भी हो सकता की प्राइमरी स्कूलो की व्यवस्था को प्राइवेट स्कूलों की तरह बेहतर बनाना ।

अम्बानी के करीबी संभालेंगे व्यवस्था

सरकार ने प्राइमरी विद्यालयों को जिस एनजीओ को सौपा है उसके फाउंडर मुकेश अम्बानी के समधी अजय पीरामल है । कुछ समय पहले ही मुकेश अम्बानी की बेटी ईशा अम्बानी की सादी अजय पीरामल के बेटे आनंद पीरामल के साथ हुई थी। अजय पीरामल भारत के 50 अरबपतियों में से एक है और इनका कारोबार दुनिया के 100 देशो में फैला हुआ है।