कलेक्ट्रेट सभागार में समाप्त की गयी जिला उद्योग बन्धु एवं व्यापार बन्धु की बैठक

कलेक्ट्रेट सभागार में मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी की अध्यक्षता के उपस्थिति में जिला उद्योग बन्धु एवं व्यापार बन्धु की बैठक को समाप्त किया गया। इस बैठक में उद्योग के आधार मेमोरैण्डम की समीक्षा की गयी, इसके आलावा एकल मेज व्यवस्था में एक जनपद एक उत्पाद मुंज क्राफ्ट के अन्तर्गत आये बिंदुओं की भी गहन समीक्षा हुई।

बैठक में हुई गहन समीक्षा का परिणाम

कलेक्ट्रेट सभागार में हुई बैठक के दौरान उद्योग के आधार मेमोरैण्डम की समीक्षा और इसके आलावा एकल मेज व्यवस्था में एक जनपद एक उत्पाद मुंज क्राफ्ट के अन्तर्गत आये मुख्य बिंदु वित्त पोषण हेतु सहायता, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, प्रधानमंत्री स्वारोजगार कार्यक्रम, विद्युत भार स्वीकृति एवं ऊर्जीकरीण, पूंजी निवेश, ग्रामीण औद्योगिक आस्थान पयागीपुर की सड़कों के उच्चीकरण एवं सुदृढीकरण कार्य तथा औद्योगिक संगठनों/उद्यमियों की सुरक्षा व्यवस्था जैसे मुद्दों की गहन समीक्षा की गयी।

हाजी महबूब के आवास पर मुस्लिम समाज की बैठक हुई संपन्न

उपायुक्त उद्योग, जिला उद्योग एवं उद्यम प्रोत्साहन केन्द्र ने एक जनपद एक उत्पाद मुंज क्राफ्ट के अन्तर्गत वित्त पोषण हेतु सहायता योजना के क्रम में बताया कि उ0प्र0 सरकार द्वारा ‘‘एक जनपद एक उत्पाद‘‘ कार्यक्रम के अन्तर्गत वित्त पोषण हेतु सहायता योजना को संचालित किया गया है, इसके अन्तर्गत जनपद सुलतानपुर से चिन्हित मूंज क्राफ्ट उत्पाद के अन्तर्गत आने वाले उद्योग/सेवा/व्यवसाय क्षेत्र में बैंकों के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाया जायेगा।

इस बार के वित्तीय वर्ष 2019-20 में निर्धारित भौतिक लक्ष्य 30 के एवं वित्तीय लक्ष्य रू 0.75 लाख के डी0एल0टी0एफ0सी0 अनुमोदन के उपरान्त कुल 82 आवेदन पत्र को विभिन्न बैंकों में प्रेषित किया गया, इसके सापेक्ष की मार्जिन मनी 48.25 लाख है। इन सबके साथ 15 ऋण के आवेदन पत्रों पर स्वीकृति/वितरण की कार्यवाही शुरू की जा चुकी है। लेकिन इस 15 ऋण आवेदन पत्रों पर स्वीकृति/वितरण की कार्यवाही को काफी न मानते हुए , इस योजना का उच्च स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है।

इस तरीके से कार्य करने पर अधिक से अधिक उद्यमियों को इस उद्यम से जोड़ा जा सकता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए योजना के विस्तार हेतु मुख्य विकास अधिकारी ने यह निर्देश सम्बन्धित अधिकारी को दिया। इसके साथ ही उन्होंने बैंकर्स द्वारा अनावश्यक ऋण पत्रावलियों को न रोकने के लिए एल0डी0एम0 को भी निर्देशित किया। बैठक के दौरान उद्यमियों/व्यापारियों ने बताया कि जनपद में स्थापित प्रदूषण जाॅच केन्द्रों द्वारा मनमानी तरीके से पैसो की वसूली हो रही है। मुख्य विकास अधिकारी यह जानकारी प्राप्त करने के बाद एआरटीओ प्रशासन से पक्ष रखने के संकेत दिये।

एआरटीओ प्रशासन माला बाजपेयी ने इस सम्बन्ध में सदन को बताया कि जनपद में कुल 7 प्रदूषण जाॅच केन्द्र स्थापित हैं। हर जाॅच केन्द्र पर शासन द्वारा निर्धारित की गयी दर पर प्रदूषण की जाॅच करने के साथ प्रत्येक जाॅच केन्द्र पर जाॅच दरों के उल्लेख किये जाने के भी निर्देश दिए गये हैं।

इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि हाल ही में जन सामान्य को कुछ प्रदूषण जाॅच केन्द्रों द्वारा निर्धारित दर से अधिक की वसूली करे जाने की शिकायत हुए आकस्मिक निरीक्षण के दौरान नवीन मण्डी स्थित ए0आर0 एवं शान बाबा प्रदूषण जाॅच केन्द्रों पर दर सूची प्राप्त नहीं हुई। इसके आलावा यहाँ निर्धारित दर से अधिक की वसूली भी पायी गयी है। और साथ ही इन्होने इन दोनों केन्द्रों के विरूद्ध कार्यवाही करने हेतु उप परिवार आयुक्त को पत्र लिखे जाने की जानकारी सदन को दी।

अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका परिषद सुलतानपुर ने व्यापार बन्धु की बैठक में पुष्टि करते हुए यह बताया कि ठेका वसूली से सम्बन्धित ठेकेदारों को फोटोयुक्त पहचान पत्र जारी कर दिये गये हैं। इसके सिवाय अगर अन्य कोई वसूली करता पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी। इस बैठक में अपर पुलिस अधीक्षक(ग्रामीण) शिवराज सिंह, उपायुक्त उद्योग, उपायुक्त वाणिज्यकर, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी पन्नालाल सहित उद्यमी एवं व्यापार बन्धु आदि ने उपस्थिति दी