प्रमुख सचिव एस॰पी॰ गोयल द्वारा खाद्य एवं रसद विभाग के सार्वजनिक वितरण प्रणाली में पारदर्शिता हेतु प्रमुख प्रयासों की हुई समीक्षा बैठक

कल शाम के 6 :30 बजे माननीय प्रमुख सचिव एस॰पी॰ गोयल द्वारा समस्त मुख्यमंत्री कार्यालय की टीम के साथ खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा, सार्वजनिक वितरण प्रणाली में पारदर्शिता एवं जवाबदेही के लिए किए जा रहे प्रमुख प्रयासों से सम्बंधित वार्ता की गई। इस कार्यक्रम में सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार एवं श्री संजय प्रसाद, विशेष सचिव मुख्यमंत्री श्री विशाख, अविनाश कुमार, नीतीश कुमार; तथा ओ॰एस॰डी॰ अभिषेक कौशिक आदि उपस्थित रहे।

इस अवसर पर खाद्य विभाग द्वारा पारदर्शिता हेतु FCI गोदाम से ब्लाक गोदाम के बीच राशन ले जाने वाले वाहनों में GPS based tracking system का प्रस्तुतीकरण देखा गया। विभाग द्वारा अब तक लगभग 3000 ट्रकों पर GPS डिवाइस लगवा दिए गए हैं। इन डिवाइसेस का पूरा ख़र्च transporter द्वारा वहन किया जाएगा। विभाग पर इसका कोई खर्च नहीं आएगा। इस सिस्टम से आवागमन में होने वाले सालाना व्यय 450 करोड़ रुपये है, उसमें 12% की बचत होगी। साथ ही खाद्यान्न की कालाबाज़ारी को रोका जा सकेगा।

अब सीएम योगी से मिलना हुआ आसान, ये अधिकारी डायरेक्ट कराएंगे मुलाकात

खाद्य विभाग द्वारा 93% राशन वितरण आधार आधारित EPOS से किया जा रहा है जिससे 1,46,632 मेट्रिक टन गेहूँ तथा 17,754 मेट्रिक टन चावल राशन की बचत तथा 613.65 करोड़ की सब्सिडी की बचत अप्रैल से अगस्त तक पाँच माह में की गई है।

कोटेदारों को पूरा राशन दिलाने के लिए 406 ब्लाक गोदाम पे 5 मेट्रिक टन की वजनी मशीन लगवाया गया है। पूर्णतया कम्प्यूटराइज्ड सप्लाई चैन में कोटेदार, जनप्रतिनिधियों तथा जनता को वितरण सम्बन्धी अलर्ट एसएमएस द्वारा दिए जाते हैं। शहरी इलाक़ों में राशन पोर्टबिलिटी के बाद अब ग्रामीण इलाक़ों में पाँच जिलों में राशन पोर्टबिलिटी अगले महीने में शुरू की जा रही है।

किसान को इसकी उपज का उचित मूल्य दिलाने तथा बिचौलियों से बचाने के लिए इस बार धान ख़रीद में किसान को ऑनलाइन पंजीयन में भूलेख पोर्टल द्वारा खसरा आधारित जाँच पड़ताल का प्रावधान है। सीधा भुगतान PFMS द्वारा किसान के सम्बन्धित खाते में ही किया जाएगा।

माननीय प्रमुख सचिव द्वारा खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा किए गए इन प्रयासों की सराहना की गई। उनके द्वारा समस्त विभाग का मुआयना भी किया गया। इस अवसर पर खाद्य आयुक्त श्री मनीष चौहान; अपर खाद्य आयुक्त सुनील वर्मा, अनिल दुबे, संतोष कुमार, ए॰के॰ सिंह तथा डीफमवो रूपेश आदि अपनी सम्पूर्ण खाद्य रसद की टीम के साथ मौजूद रहे।