पानी के लिए रात 3 बजे मीलों चलकर जाते हैं लोग और दोपहर 10 बजे मिलता एक बाल्टी पानी

many people miles to travel for water

देश को आजाद हुए 7 दशक से ज्यादा का समय हो चुका है। इस लम्बे समय में न जाने कितनी सरकार आयी और गयी पर देश के कई हिस्से अभी भी ऐसे है जहां पर लोगों को बिजली नहीं मिलती और पानी के लिए मीलों चलना पड़ता है।

जम्मू-कश्मीर के उधमपुर के दूर दराज के पहाड़ी क्षेत्रों के लोगों को पानी की कमी से दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। लोगों को पानी के लिए मीलों पैदल चलना पड़ता है। जल शक्ति के AEE ने कहा, ”पानी की बहुत कमी है। टैंकर भेजकर सप्लाई करते हैं। स्थानीय स्रोतों से ही लोग पानी लेते हैं।”

दारसू के बगलिया गांव के एक निवासी ने कहा कि रात को 3 बजे पानी के लिए आते हैं और 10 बजे एक बाल्टी पानी मिलता है। हम भी तो वोट देते हैं। सरकार को हमारी मदद करनी चाहिए। हम 35 साल से बिना नल के जी रहे हैं। सरकार से मांग है कि जल्द से जल्द पानी की व्यवस्था की जाए और हमारे घरों में नल लगवाया जाए।

सिर्फ नाम की योजनाएं

पानी को घर-घर पहुँचाने के लिए कई योजनाएं बनायीं गयी पर अभी भी देश में लोगों को पानी के लिए मशक्कत करनी पड़ती है। सरकारों को ये पता होता है कि कोई बिल्डिंग, मूर्ति, पार्क का काम कब पूरा हो जायेगा पर ये नहीं पता होता की देश के लाखों लोगों को अभी बिजली-पानी जैसी सुविधाएं ही नहीं मिल पा रही है। बस योजना लांच करने की सरकारों को जल्दी होती है पर योजना का लाभ कितनों को मिला या नहीं मिला, ये नहीं पता होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here