AIPSC की मेजबानी का सालों के बाद लखनऊ को मिला मौका

google

दो दिवसीय 47वीं अखिल भारतीय पुलिस विज्ञान कांग्रेस  का शुभारंभ आज लखनऊ के पुलिस मुख्यालय में इस कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। इस आयोजन का उद्घाटन पुडुचेरी की उपराज्यपाल और सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी किरण बेदी और उत्तर प्रदेश के डीजीपी  ओपी सिंह ने किया। इसके साथ ही उत्‍तर प्रदेश पुलिस, गृहमंत्रालय और पुलिस अनुसंधान और विकास ब्‍यूरो के संयुक्‍त तत्‍वाधान में इस सम्‍मेलन का आयोजन किया जा रहा है।

आपको बताते चले कि आखिरी बार 1997 अखिल भारतीय  पुलिस विज्ञान कांग्रेस की मेजबानी लखनऊ ने की थी । आयोजन के 6 सत्रों के दौरान, पुलिस अधिकारी, शिक्षाविद, शोधकर्ता, न्यायिक और वैज्ञानिक विशेषज्ञ अपने शोध पात्र प्रस्तुत करेंगे। आगे आपको बता दे कि इस कार्यक्रम का समापन समारोह में गृह मंत्री अमित शाह मुख्य अतिथि के तौर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विशिष्ट होंगे।

कानून-व्यवस्था से हमेशा जूझने वाली पुलिस के लिए अपने संसाधनों से लेकर तकनीक के सहारे आगे कदम बढ़ाने और बेहतर भविष्य की झलक देखने के लिए एक बार फिर देशभर के पुलिस अधिकारी, विशेषज्ञ, समाजशास्त्री जुटने जा रहे हैं। इस बार 22 साल के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस को 47वीं अखिल भारतीय पुलिस साइंस कांग्रेस-2019 की मेजबानी का मौका मिला है।

इसके साथ ही आपको बताते चले कि पुलिस अधिकारियों के मुताबिक इससे पहले 29वीं अखिल भारतीय पुलिस साइंस कांग्रेस का आयोजन नवंबर 1997 में लखनऊ में हुआ था। इस बार छह विषयों को चुना गया है। कार्यक्रम के पहले दिन 28 नवंबर को पुलिस की चुनौतियों, फोरेंसिक साइंस और महिला व बच्चों की सुरक्षा के विषयों पर देशभर से आए पुलिस अधिकारी और विशेषज्ञ मंथन भी  करेंगे।