लखनऊ:कोविड-19 उपचार के नाम पर अनुचित मेडिकल चार्ज वसूलने वाले चिकित्सा संस्थानों पर प्रशासन की नज़र

lucknow news
lucknow news

लखनऊ।कोविड उपचार के नाम पर जनता से अनर्गल व अनुचित मेडिकल चार्ज वसूलने वाले चिकित्सा संस्थानों पर जिला प्रशासन ने नजर रखनी शुरू कर दी है।कोविड उपचार के नाम पर अधिक वसूली करने वाले अस्पतालों पर कसेगा शिकंजा। आज स्मार्ट सिटी सभागार में मंडलायुक्त मुकेश मेश्राम व जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश द्वारा कोविड 19 की प्रभावी रोकथाम के लिए सम्बंधित अधिकारियों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई।बैठक में निम्नवत दिशा निर्देश दिये गए-

 

1- जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि पाज़िटिव लोगो की कांटेक्ट ट्रेसिंग को तेज किया जाए। किसी भी दशा में शिथिलता को बर्दाश्त नही किया जाएगा।कांटेक्ट ट्रेसिंग को लेकर जिलाधिकारी ने कहा कि जितने भी रोगी पाज़िटिव आ रहे है उनकी ट्रेसिंग 1 घण्टे के भीतर पूरी कर ली जाय।

2- जिलाधिकारी ने बताया कि संज्ञान में आया है कि कुछ लैबोरेट्री के द्वारा बिना अधिकृत अनुमति के ही कोविड टेस्ट किये जा रहे है। जिसके लिए कड़े निर्देश दिए कि तत्काल ऐसी लैबोरेट्री की जांच करके नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।

3- जिलाधिकारी द्वारा डेथ ऑडिट की भी समीक्षा की गई। विभाग द्वारा बताया गया कि ऑडिट का कार्य जारी है। जिसके लिए जिलाधिकारी ने कड़े निर्देश दिए की जितनी भी मृत्यु कोविड संक्रमण के कारण हुई है उन सभी का डेथ ऑडिट आज रात तक उपलब्ध कराया जाए कि रोगी कहाँ का मूल निवासी था, मृत्यु का कारण क्या था , पहले कौन-कौन सी बीमारियां थी इत्यादि। यह सूचनाएं प्रतिदिन उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए।

4- बैठक में निर्देश दिए गए कि कांटेक्ट र्टेसिंग में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए ,सही कांटेक्ट को चिन्हित किया जाए ताकि संक्रमण की प्रभावी रोकथाम की जा सके अन्यथा प्रभारी कांटैक्ट ट्रेसिंग व ज़िला सर्विलांस अधिकारी की ज़िम्मेदारी तय की जाएगी।

5-बैठक में बताया गया कि होम आइसोलेशन में रहने वाले व्यक्ति 10 दिन घर मे ही आइसोलेट होंगे और उसके बाद 7 दिन होम क्वारेंटिंन होंगे। इन लोगो की निगरानी मोहल्ला समिति और थानों के द्वारा की जाएगी। साथ ही होम आइसोलेटेड व्यक्तियों के घर पर स्टिकर लगा कर चिन्हिकरण किया जाएगा और यदि प्रोटोकॉल के विपरीत होम आइसोलेटेड व्यक्ति अगर बाहर घूमते मिलेंगे तो उनको तत्काल कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराया जाएगा।

6-बैठक में बताया गया कि कुछ हॉस्पिटलू के द्वारा कोविड उपचार के नाम पर लोगो से अधिक पैसे लिए जाने की सूचनाएं प्राप्त हो रही हैं। ऐसे हॉस्पिटल्स पर कड़ी नजर रखी जाएगी। इसके लिए मंडलायुक्त द्वारा एक कमेटी का भी गठन किये जाने के निर्देश दिए गए,जो कि वैश्विक महामारी के उपचार में इस प्रकार के अनुचित व अमानवीय कार्य करने वाले हॉस्पिटलों पर कड़ी कार्यवाही करना सुनिश्चित करेगी।

7- जिलाधिकारी ने बताया कि इलाज के नाम पर वसूली पर रोक लगाने के लिए कोविड-19 उपचार हेतु अधिकतम शुल्क निर्धारित करते हुए अपेक्षाकृत अधिक शुल्क वसूलने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

ब्यूरो रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here