आजीवन कारावास नहीं होता 14 या 20 वर्षों का,तो कितने वर्षो की होती है सजा ?

google

आज हमारे देश में बढ़ाते अपराध को लेकर सबके जुबान पर यही सवाल रहता है की अपराधी को फांसी की सजा मिलनी चाहिए। लेकिन हमारे देश भारत में फांसी की सजा पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था। मगर आज कल के बढ़ते अपराधों जैसे बलात्कार को लेकर जनता काफी ज्यादा भड़क गई है। एक फिर जनता इन अपराधियों के लिए फांसी की सजा की मांग कर रही है। लेकिन अभी तक किसी को सरकार की तरफ से फांसी की सजा नहीं सुनाई गई है।

अब आप सोच रहे होंगे की मै आखिर आपको ये सब क्यों बता रही हूँ। मै आपको ये सब इसलिए बता रही हूँ क्योकि इन्ही बलात्कारियों में से अभी हाल ही में कुछ अपराधियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है और आज मै आपको आजीवन कारावास यानि उम्र कैद के बारे में बताने वाली हूँ की आखिर आजीवन करवास क्या होता है और यह सजा कब क्यों किस अपराध में सुनाई जाती है।

CAA और NRC को लेकर प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर हमला

आजीवन कारावास का अर्थ

आजीवन कारवास जिसे इंग्लिश में (Life Imprisonment) और उर्दू में उम्र कैद कहते है। ज्यादातर लोग समझते है की उम्र कैद और आजीवन कारवास ये दोनों अलग-अलग चीज है। बल्कि ऐसा नहीं है, आजीवन कारावास के लिए उर्दू में शब्द है उम्र कैद और अंग्रेजी शब्द में इसे (Life Imprisonment) के नाम से जाना जाता है। इस दंड के बारे में हमें पहला प्रावध IPC के Section number 53)में मिलती है। (IPC Section 53) हमे दण्डो के बारे में बताती है की IPC में कितने तरह के पनिश्मेंट है। IPC में जो पनिश्मेंट है। उनके पांच भाग होते है…..

IPC पनिश्मेंट के भाग

● Death Punishment/मौत की सजा
● Life Imprisonment/उम्र कैद या आजीवन कारवास
● Imprisonment/कारवास
● Fine/जुरमाना
● Forfeiture Of Property/संपत्ति का समापहरण

कारावास को दो भागो में विभाजित किया गया है।

● Simple(सादा कारावास)
● Rigorous(सक्षम कारावास)

आशा करती हूँ की अब आप आजवीन कारावास और उम्र कैद दोनों एक ही चीज है समझ आ गया होगा। इनमे IPC के अंतर्गत (Section number 53) के बारे में भी मालूम हो गया होगा की यह Section क्या है और इसे कितने भागो में बाटा गया है। यह सब बात आप लोगो को मालूम हो गई है। लेकिन अब थोड़ी नजर इस बात पे डालते है की आजवीन कारावास को लेकर लोगो के मन में क्या-क्या भ्रांतियां है। तो आईये जानते है।

आजीवन कारावास को लेकर भ्रांतिया

कुछ लोग समझते है की कारावास 20 वर्ष का होता है। कुछ समझते है ये 14 वर्ष का होता है। जबकि ऐसा नहीं है यह गलत है। लेकिन जहां कही भी आजवीन कारावास है वहाँ पर आजवीन कारावास पूरी जिंदगी के लिए होता है। इसका मतलब यह है की व्यक्ति का बचा हुआ बाकि जीवन के लिए कारावास। जिसे कारावास में डाला गया है। कारावास का मतलब 20 वर्ष या 14 वर्ष के समतुल्य होना नहीं है। आजवीन करावस का मतलब उस व्यक्ति के बचे जीवन के लिए कारावास से होना है।