Lockdown: 500 KM तो कोई 1000 KM का सफर पैदल तय कर रहे लोग

21 days lockdown
image source - googe

अभी तक लोगों को संतोष था कि 31 मार्च तक लॉकडाउन खत्म हो जाएगा और वह पुनः अपने काम पर वापस लौट आएंगे और पहले कि तरह जिंदगी चल पड़ेगी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भारत में अगले 21 दिनों तक के लॉकडाउन की घोषणा किए जाने के बाद उन लोगों में काफी चिंता है जो अपना शहर व राज्य छोड़कर दूसरे जगहों पर काम करने के लिए गए थे। इनमें हजारों की संख्या मजदूर है। 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा सुनने के बाद यह सभी लोग पैदल ही अपने गांव के लिए रवाना हो रहे हैं।

इन लोगों का कहना है कि ’22 तारीख से हमारे पास कोई काम नहीं है और हम रोज कमाने और खाने वाले हैं। ऐसे में हमें अपने गांव लौटने के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नजर नहीं आ रहा है। इसलिए हम पैदल ही अपने गांव के लिए निकल पड़े हैं।’ बता दे यह लोग अपने गांव किसी गाड़ी से नहीं बल्कि पैदल, साइकिल या रिक्शा से जा रहे हैं और यह दूरी 100 या 200 किलोमीटर नहीं बल्कि 300 किलोमीटर, 500 किलोमीटर या हजार किलोमीटर तक की दूरी तय करने पर यह सभी गरीब मजदूर लोग मजबूर है।

सीएम योगी ने रामलला को अस्थाई मंदिर में किया विराजमान, जाने कैसा है मंदिर

कोई दिल्ली से वापस उत्तर प्रदेश, बिहार व चंडीगढ़ जा रहा है तो कोई मुंबई से वापस उत्तर प्रदेश बिहार व राजस्थान। कुछ लोग अहमदाबाद से राजस्थान पैदल रिक्शा या साइकिल से जा रहे हैं। इन सब की दूरी बहुत अधिक है। इन लोगों को इतना लंबा सफर तय करने में 3 से 7 दिन तक लग सकते हैं या इससे भी ज्यादा। सरकार ने श्रमिकों मजदूरों के लिए 1000 रुपए देने का ऐलान किया है और खाने-पीने की भी कोई कमी नहीं होने को कहा है। इसके बाद भी इन लोगों में बहुत ज्यादा चिंता है। क्योंकि अभी कुछ जगह पर इस तरह की व्यवस्था नहीं हो पाई है। ऐसे में श्रमिकों और मजदूरों को अपने घर लौटने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नजर नहीं आ रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here