चीन के विरोध के बाद भी भारत,जापान,यूएस करेंगे युद्ध अभ्यास

भारत अमेरिका और जापान तीनो की नौसेनाएं बृहस्पतिवार को दक्षिणी चीन सागर में साझा युद्ध अभ्यास करेंगी। इस युद्ध अभ्यास में तीनों देशो की सेनाएं एक दूसरे से कुछ नया सीखने का प्रयास करेंगी और इससे तीनो देशो के बीच अच्छे सम्बन्ध भी स्थापित होंगे,पर चीन इस युद्ध अभ्यास का विरोध कर रहा है ।

चीन ने गतिविधि बढ़ाई

दरअसल चीन के इस विरोध का कारण है युद्ध अभ्यास की जगह, ये युद्ध अभ्यास दक्षिणी चीन सागर में किया जायेगा। जो की चीन सीमा के करीब है। चीन इस को अपना सीमा क्षेत्र मानता है। इसी वजह से चीन ने इस साझा युद्ध अभ्यास का विरोध किया और चीन ने सागर में अपनी सेनाओ की गतिविधियों को बढ़ा दिया है ।

जम्मू कश्मीर: अमेरिका ने किया अलर्ट,हो सकता है आतंकी हमला

आधुनिक युद्ध अभ्यास

भारत अमेरिका जापान तीनो देशो की नैसेनाये आधुनिक विमानों,पनडुब्बियों और हथियारों का उपयोग करेंगी। खबर के अनुसार इस अभ्यास में भारत के दो सहयाद्रि जहाज और कोर्वेट किल्टान, गाइडेट मिसाइल, पनडुब्बी, पि-8 आई विमान हिस्सा लेंगे। अमेरिका की ओर से यूएसएस मैक्कैंपबेल और लड़ाकू पनडुब्बी,पि-8 ए आदि इस युद्ध अभ्यास में शामिल होंगे। वहीँ जापान की ओर से गाइडेट मिसाइल,जेएस कागा हैलीकॉप्टर,जेएस समीदेर और गस्ती विमान पि-1 हिस्सा लेंगे। आपको बता दे की यर अभ्यास 9 दिनों तक चलेगा ।