रक्षा मंत्री ने आज राज्यसभा में चीन द्वारा कब्ज़ा की गयी जमीन के बारे में क्या जानकारी दी

defence minister talk about india china
image source - google

मानसून सत्र शुरू हो चुका है और इस बार देश के सबसे बड़े मुद्दों में से एक भारत चीन सीमा विवाद पर संसद में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जानकारी दे रहे हैं।

रक्षा मंत्री ने कहा मैं संसद में भारत और चीन के बीच चल रहे विवाद के बारे में बताना चाहता हूं। अभी तक दोनों देशों के बीच सीमा विवाद सुलझा नहीं है। दोनों देशों के बीच खीची अधिकारी रेखा को चीन नहीं मानता है।

1962-1963 में भारत की हजारों किलोमीटर जमीन चीन ने की कब्जा

रक्षा मंत्री ने चीन और पाकिस्तान द्वारा कब्जा की गई भारत की जमीन को लेकर भी संसद में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि जैसा कि सदन जानता है कि चीन लद्दाख में भारत की लगभग 38000 किलो मीटर स्क्वायर जमीन पर कब्जा किए हुए हैं। इसके अलावा 1963 में एक तथाकथित बाउंड्री एग्रीमेंट के तहत पाकिस्तान ने पीओके की 5880 किलो मीटर स्क्वायर जमीन अवैध रूप से चीन को सौंप दी।

इसके अलावा चाइना अरुणाचल प्रदेश की सीमा से लगे हुए 90000 किलोमीटर भारतीय क्षेत्र को भी अपना ही बताता है। भारत और चीन दोनों ने माना है सीमा का मुद्दा एक जटिल प्रश्न है। इसके समाधान के लिए धैर्य की आवश्यकता है तथा इसका समाधान शांतिपूर्वक निकाला जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here