सिद्धार्थनगर : अनोखे तरीके से हो रहा अवैध बालू खनन का खेल,गाँवो में बाढ़ का खतरा

Illegal sand mining
Siddharthnagar

सिद्धार्थनगर :। अवैध बालू खनन का खेल जिले में रुकने का नाम नही ले रहा है। यही अवैध बालू खनन होने से नदियों के आस पास के गाँवो में बरसात के समय बाढ़ का खतरा बना रहता है। अवैध तरीके से बालू खनन करने वाले माफिया हर वक्त इस अबैध धंधे के फिराक में लगे रहते है। जिले में बहने वाली बूढ़ी राप्ती नदी का जो हिस्सा मिश्रौलिया थाना में पड़ता है वो इन खनन माफियाओ का अड्डा बन गया है।

अनोखे तरीके से चल रहा अवैध बालू का खनन

वर्तमान समय मे इस नदी में रतनपुर सोनौली व अशोगवा घाट पर अवैध तरीके से बालू खनन का काम दिन हो या रात हमेशा जारी है। इन घाटो पर बालू खनन माफिया सक्रिय है और अनोखे तरीके से बालू खनन का काम कर रहे है। इन घाटों पर पहले बोरो से नदी के तट पर निकाल कर बालू इकट्ठा किया जाता है और फिर बैलगाड़ी और ट्राली में लोड कर सप्लाई की जाती है। ट्राली से ये अवैध खनन का बालू 2 हजार 5 सौ रुपये और बैलगाड़ी से 8 सौ रुपये में खुले आम बेचा जाता है।

इस अवैध खनन में लिप्त लोगो के खिलाफ कार्यवाही न होना कही न कही अवैध बालू खनन को रोकने के लिये जो जिम्मेदार अधिकारी और कर्मचारी है उनके कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान भी खड़ा हो रहा है, या यूं भी कहा जा सकता है कि बिना इनके मिली भगत के इस तरह से अवैध बालू खनन करना सम्भव नही है।

अवैध बालू खनन पर जिले के जिलाधिकारी का कहना है 3 महीने जुलाई अगस्त और सितम्बर के लिए बालू खनन का काम रोका जाता है और कुछ जगहों से सायकिल बैलगाड़ी से खनन की जानकारी मिली है इसको रोकने और कार्यवाही करने के लिए निर्देश दिया गया है और कार्यवाही भी की जा रही है।

रिपोर्ट:-कृपा शंकर भट्ट….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here