कैसे होगी नाकामयाब ? चीन की हर नापाक चाल !

चीन के साथ चल रहे सीमा-विवाद के बीच सरकार ने भारतीय सेना के लिए 12 नई हाई परफॉर्मन्स बोट को ख़रीदा है। ये हाई परफॉर्मन्स बोट्स लद्दाख़ में चीन की सीमा से लगी पैंगोंग झील में तैनात की जाएंगी। इन बोटों की सहायता से भारतीय सेना पैंगोंग झील की निगरानी करेगी। इन नौकाओं का रख-रखाव भारतीय सेना के इंजीनियर करेंगे। ऐसा बताया जा रहा है कि मई 2021 से इन बोट्स की डिलीवरी शुरू हो जाएगी।

 

भारतीय सेना ने गोवा शिपयार्ड लिमिटेड से एक क़रार किया जिसके तहत भारतीय सेना को 12 हाई परफॉर्मन्स बोट दिए जायेंगे। सेना ने ट्वीट करके इस बात की पुस्टि की। नौकाओं की अपूर्ति मई 2021 से शुरू हो जाएगी। गोवा शिपयार्ड लिमिटेड ने बताया कि नौकाओं में अत्याधुनिक तकनीक व उपकरणों का इस्तेमाल किया गया है जिससे सेना को बहुत मदद मिलेगी। इन बोट्स को भारतीय सेना में शामिल किये जाने से सेना का मनोबल और बढ़ा है।

 

 

बताना जरुरी होगा कि पैंगोंग झील की कुल लम्बाई 134 किमी है। पैंगोंग झील के आठ फिंगर्स हैं , इसका एक हिस्सा चीन से लगा हुआ है। सर्दियों के मौसम में यह झील पूरी तरह से जम जाती है। गर्मियों के आते ही सेना यहाँ अपना डेरा जमा लेती है। अब से मई में भारतीय सेना यहाँ अपनी बोट्स पर तैनात रहेंगे।
ये हाई परफॉर्मन्स बोट एक बार में 25 से 30 लोगों के साथ भारी मात्रा में गोला-बारूद ले जाने में सक्षम है। चीन की तुलना में ये बोट्स ज्यादा तेज़ होंगी।

पिछले एक वर्षों से भारत के साथ चीन का सीमा विवाद चल रहा है। विवाद का क्षेत्र है लद्दाख़ में स्तिथ पैंगोंग लेक जिसे लेकर चीन दावा करता है कि यह झील उनके सीमा में आती है। इसे लेकर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं। इस सीमा विवाद में पिछले वर्ष 20 जवान शहीद हो गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here