लगातार तेजी से की जा रही है हरे-भरे पेडों की कटाई

image source-google

लगातार पेड़ो की अवैध कटाई ने मानवीय जीवन को प्रभावित किया है।हरे भरे पेडों की अवैध कटाई ने पर्यावरण को काफी नुकसान भी पहुंचाया है।इतने कानून और नियमों के बावजूद पेड़ो की कटाई धुआंधार जारी है।क्योकि पेड़ो की कटाई करने वाले ठेकेदारों का हल्का पुलिस से संपर्क होता है। कटान लकड़ी ठेकेदार हल्का पुलिस से संपर्क कर वनों की कटान को बेधड़क अंजाम देते हैं। क्योकि उन्हें पेड़ कटान का परमिट हल्का पुलिस से ही मिल जाता है और ठेकेदार बिना किसी रोकटोक के लगातार हरियाली पर आरा चला कर हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

लकड़ी माफिया कर रहे हैं आम की बाग़ में हरे पेड़ों की कटाई

ऐसी ही एक खबर जनपद बहराइच से आई है। जहाँ योगी सरकार का कानून फेल हो गया है।जनपद बहराइच अब्दुल्लागंज रेंज चनैनी ग्राम सभा में हरे पेड़ों का कटान बहुत तेजी से चल रहा है। पुलिस और वन विभाग के रहमों करमो का असर इलाके में हरे भरे पेड़ो पर आ रहा व पेड़ो पर कुल्हाड़ी बहुत जोर से चल रही हैं। बता दे की ठेकेदार अपना काम बहुत तेजी से कर रहे है। इतना ही नहीं पेड़ काटकर रातों-रात लकड़ी वन विभाग पार करवा देती हैं।

बता दे की जिले के अधिकारी कितना भी क्राइम रोकने की कोशिश कर ले लेकिन उनकी पुलिस ही क्राइम कर रही है।क्योकि वे सब हरे पेड़ कटवा कर मोटी रकम वसूली रहे है।बता दें की थाना क्षेत्र में धड़ल्ले से हरे भरे पेड़ पुलिस की मिलीभगत से काटे जा रहे हैं ।लकड़ कट्टे सुविधा शुल्क देकर हरे और स्वस्थ पेड़ों का परमिट हासिल कर लेते हैं। और पुलिस की देख रेख में पेड़ों की कटाई की जाती है।

घूसखोर पुलिस और वन विभाग पैसा लेकर अपनी आंखे बंद कर लेती हैं। जिससे लकड़ी कटाई माफियाओ के हौसिले बुलन्द हो रहे है। योगी सरकार के आदेशों की वन विभाग के लगातार धज्जियां उड़ा रहा है। आखिर कब बंद होगा क्राइम। जहाँ सरकार प्रदेश में क्राइम कम कराने के लिए रोज नए-नए हत्कंडे अपनाती रहती है। वही उतना ही उनके आदेशों की धज्जियाँ उड़ाई जाती है।