सीएम योगी के स्वास्थ्य लाभ के लिए की गई विशेष पूजा-अर्चना, मंदिरों में लागू हुए नियम

prayer for cm yogi
image source - google

सीएम योगी के स्वास्थ्य लाभ एवं कोरोनावायरस के सम्पूर्ण नाश के लिए बाबा मुक्तेश्वर नाथ मंदिर में हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने किया रुद्राभिषेक।

• सीएम योगी के स्वास्थ्य लाभ के लिए हुई पूजा-अर्चना
• धार्मिक प्रतिष्ठानों में 5 लोगों से ज्यादा लोग नहीं जा सकते अब
• कोरोना गाईडलाईन का करना होगा पालन

गोरखपुर मुक्तेश्वर नाथ धाम स्थित शिवलिंग पर आज हिंदू युवा वाहिनी कालीबाड़ी नगर मंडल गोरखपुर के मंडल प्रभारी संतोष वर्मा के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं गोरक्ष पीठ के पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ के स्वास्थ्य लाभ की कामना ओं के लिए एक रुद्राभिषेक किया गया।

इसके साथ ही मां पार्वती मां महेश्वरी एवं मां काली एवं राम भक्त हनुमान की विशेष पूजा पाठ भी की गई जिसमें विशेष रूप से सीएम योगी के शीघ्र स्वस्थ होने एवं कोरोनावायरस का समूल नाश करने के लिए विश्व कल्याण की भावना से विधिवत पूजा पाठ भजन इत्यादि किया गया।

गौरतलब है कि सीएम योगी कोरोनावायरस से संक्रमित हो चुके हैं और जो उनके प्रशंसक हैं उनके अंदर काफी निराशा है जिसको लेकर आज गोरखपुर की सुप्रसिद्ध सिद्ध पीठ मुक्तेश्वर नाथ धाम में रुद्राभिषेक का आयोजन किया गया।

गोरखपुर के मंदिरों में नियम

कोरोना के बढ़ते हुए संक्रमण को देखते हुए प्रदेश सरकार ने निर्देश जारी किया था कि उत्तर प्रदेश के सभी धार्मिक प्रतिष्ठानों में 5 लोगों से ज्यादा लोग नहीं जा सकते हैं और मंदिर प्रबंधन को भी आने वाले सभी श्रद्धालुओं के स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए उनको सैनिटाइजर मास्क के लिए प्रेरित करना होगा।

अगर हम बात करेंगे तो गोरखपुर जिले में इस समय 10 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं और गोरखपुर में संक्रमण से ग्रसित मरीजों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है। जिसको लेकर गोरखपुर के प्रसिद्ध सिद्ध पीठ मुक्तेश्वर नाथ धाम में एवं गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए संख्या निर्धारित कर दी गई है।

यूपी में अब मरीजों को भर्ती करने में आनाकानी करने वाले अस्पतालों की खैर नहीं

5 व्यक्तियों से ज्यादा लोग मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकेंगे मंदिर प्रबंधन की तरफ से मंदिर की घंटियों को कपड़े से कवर कर दिया गया है एवं मंदिर आने जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए सैनिटाइजर एवं मास्क पहन कर आने के लिए मंदिर प्रबंधन के द्वारा निरंतर प्रोत्साहित एवं जागरूक किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here