गोंडा: बाढ़ पीड़ितों को नहीं मिल पा रही जिलाप्रशासन से मदद

Rakesh Singh - Additional District Magistrate - Gonda
Rakesh Singh - Additional District Magistrate - Gonda

गोंडा। यूपी में लगातार हो रही बारिश के चलते जहां बैराजों से डिस्चार्ज किए गए लाखो क्यूसेक पानी से गोंडा में घाघरा और सरयू नदी खतरे के निशान से लगभग 75 -93 सेंटीमीटर ऊपर बहने से दो तहसील क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात हैं।नदियों के जलस्तर में लुका छुपी के खेल के चलते बाढ़ प्रभावित लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। कर्नलगंज तहसील क्षेत्र के नकहारा गांव के कई मजरे बाढ़ की चपेट में हैं नदी के तलहटी पर बसे गांव के कई घरों में पानी भरा हुआ है और कई लोग विस्थापित होकर ऊंचे स्थान या बान पर शरण लेने को मजबूर है।1 दर्जन से अधिक मजरे सहित लगभग 2000 की आबादी प्रभावित लोग आने जाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा दी गई नावो का सहारा ले रहे हैं। जहां एक तरफ लोगों को बाढ़ में जीवन व्यतीत करने पर भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है तो पशु के लिए चारे की भी किल्लत है जिला प्रशासन बाढ़ पीड़ितों को राशन के तिरपाल व अन्य जरूरी सामान मुहैया कराने के दावे कर रहा है लेकिन बाढ़ में फंसे लोग कुछ और ही बता रहें है।

gonda news
gonda news

बाढ़ ग्रस्त इलाकों के घरों में जो नदी के तलहटी पर बसा हुआ है पूरे घर में पानी है चाहे घर का रखा सामान या अन्य जरूरी सामान हर जगह पानी ही पानी है बाढ़ जैसे हालात होने के बाद अभी तक जिला प्रशासन का कोई भी अधिकारी या कर्मचारी नहीं पहुंचा है जो भी लेखपाल व अन्य कर्मचारी पहुंचते हैं बस केवल बांध पर ही पहुंच कर वहां से निकल जाते हैं जहां तक कोई नहीं पहुंचा है।

gonda news
gonda news

कर्नलगंज तहसील क्षेत्र के नकहारा गांव का बाढ़ ग्रस्त इलाका है जहाँ चारों तरफ पानी भरा है और जो पानी का सैलाब जो आप देख रहे हैं यह कोई नदी नहीं है बल्कि घाघरा नदी का जलस्तर ऊपर होने के चलते यहां पर बाढ़ जैसे हालात हैं कई घर टापू में तब्दील है और कई घरों में बाढ़ का पानी घुस गया है लोग आने जाने के लिए नाव का सहारा ले रहे हैं हर तरफ पानी ही पानी है फसलें जलमग्न है शौचालय में पानी भरा है घरों तक पानी भरा है घरों में रखा सामान जल मग्न है तो लोग छतों पर डेरा डालकर रहने को मजबूर है लोगों का कहना है कि जब से यहां बाढ़ जैसे हालात हैं कोई भी अधिकारी कर्मचारी यह नहीं आया है बस केवल बांध पर ही आकर सर्वे करके चले जा रहे हैं हम लोगों को अभी तक सरकार से कोई मदद नहीं मिली है हम चाहते हैं कि जिला प्रशासन का कोई अधिकारी लेखपाल यहां आए और हमारा दुख दर्द जाने रात में अंधेरा रहता है ना ही किसी तरह की कि सौर ऊर्जा हम लोगों को दिया गया है और कई जहरीले जंतु भी रात में घूमा करते हैं जिससे हम लोग दहशत में हैं सारे पशु को बांध पर रहने के लिए छोड़ दिया गया। जो ग्राम प्रधान है वह अधिकारियों को यहां तक लेकर नहीं आते हैं ना ही कोई जांच करवाते हैं छतों पर रहते हैं तो रात में पानी बरसने लगता है लोगो को बहुत दिक्कत है।

gonda news
gonda news

वही पूरे मामले पर अपर जिला अधिकारी गोंडा राकेश सिंह का कहना है कि सरयू और घाघरा नदी खतरे के निशान से ऊपर बहने के चलते नकहारा गांव में बाढ़ जैसे हालात हैं और सभी को आने जाने के लिए नाव की व्यवस्था करा दी गई है राहत सामग्री बांटी जा रही है और त्रिपाल की व्यवस्था कराई गई जिससे लोग बांध पर रह सके जिला प्रशासन लगातार बाढ़ पीड़ितों की मदद करने में जुटा हुआ है। जिन लोगों को राहत सामग्री नहीं मिल पाई है उनको भी राहत सामग्री मुहैया कराई जाएगी।

रिपोर्ट- अतुल यादव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here