CAB: जामिआ इलाके में हुए उग्र प्रदर्शन की पूरी कहानी

cab
image source - google

CAB (Citizen Amendment Bill) के खिलाफ पहले असम और पूर्वोत्तर के राज्यों में प्रदर्शन किया जा रहा था पर अब ये हिंसक प्रदर्शन देश के अलग-अलग राज्यों में होना शुरू हो गए है। असम के बाद सबसे ज्यादा हिंसक प्रदर्शन दिल्ली में देखने को मिला। जहाँ जामिया इस्लामिया के छात्रों ने रविवार को प्रदर्शन किया। ये प्रदर्शन इतना उग्र था की 4 बसों कई बाइक व अन्य गाड़ियों में आग लगा दी गयी। दमकल की गाड़ियां जब मौके पर पहुंची तो प्रदर्शनकारियों ने उनकी गाड़ी पर भी हमला कर दिया। पुलिस जब छात्रों को रोकने पहुंची तो उन्होंने पुलिस पर भी पथराव किया जिसमे 6 पुलिसकर्मी घायल हुए है। बाद में ये बात भी सामने आयी की इसमें जामिया यूनिवर्सिटी के छात्र नहीं थे पर प्रदर्शन करने वालों में छात्र भी शामिल थे वो कहा के थे इसका पता नहीं चला है।

CAB को लेकर अब नदवा के भी सैकड़ों छात्र उतरे सड़क पर

ये है पूरा मामला

रविवार को जामिया मिलिया के छात्र CAB के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। पुलिस ने जब उनको शांत और पीछे हटने को कहा तो शाम 4 बजे के असा-पास प्रदर्शन अचानक उग्र हो गया। जामिया मिलिया के छात्रों ने 3 बसों में तोड़-फोड़ की और आग लगा दी। आग बुझाने के लिए जब दमकल की 4 गाड़ियां पहुंची तो हिंसक प्रदर्शनकारियों ने उनपर भी हमला किया। जिसमे दो फायरमैन घायल हो गए। इसके बाद पुलिस ने भी क़ानूनी कार्यवाही करते हुए छात्रों को पीछे करना शुरू किया और आंसू गैस के गोले छोड़े।

छात्रों का आरोप

जामिया मिलिया के छात्रों का आरोप है की हम शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे थे। दिल्ली पुलिस ने छात्र और छात्रों पर लाठी बरसाई और आंसू गैस के गोले छोड़े। छात्रों का ये भी कहना है की दिल्ली पुलिस कैंपस के अंदर अचानक घुस आयी और लाइब्रेरी में पढ़ रहे छात्रों को भी मारा, जो की प्रदर्शन में शामिल नहीं थे। छात्र पुलिस के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग कर रहे है।

पुलिस का कहना

साऊथ ईस्ट दिल्ली DCP चिन्मय बिस्वाल से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया की 3 दिन से जामिया इलाके में अलग अलग ग्रुप में प्रदर्शन हो रहा था। उनको प्रदर्शन करने दिया जा रहा था और कहीं रोका नहीं गया। लेकिन करीब 3 बजे के आस-पास 1500 से 2000 लोग यूनिवर्सिटी इलाके से होते हुए रिंग रोड की तरफ बढ़ रहे थे। पुलिस ने नई फ्रंट कॉलोनी में बैरिकेट्स लगा कर प्रदर्शनकारियों को रोका गया और शांति पूर्वक प्रदर्शन करने को कहा गया पर कुछ लोग जो ग्रुप में थे, वो पीछे से रिंग रोड पर पहुंच गए और रोड को बंद करने की कोशिश की। पुलिस ने उन्हें रोका पर वो उग्र हो गए और गाड़ियों में तोड़ फोड़ करने लगे साथ ही आग भी लगायी। जिसके बाद पुलिस ने उनको पीछे करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े और प्रदर्शनकारियों ने वापस जाते हुए पुलिस पर पथराव किया, जिसमे पुलिस के 6 जवान घायल हुए। इसके बाद भी पुलिस उनको पीछे करते हुए और जहाँ-जहाँ से पथराव हो रहे थे पुलिस उन जगह चेकिंग करते हुए जा रही थी। लाइब्रेरी में भी चेकिंग के लिए पुलिस गयी थी।

गैस सिलिंडर फटने से घर तबाह, 90% से अधिक जले परिवार के लोग

आधा दिल्ली बंद

इतने हिंसक प्रदर्शन के कारण दिल्ली के 15 मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है। इनके नाम है सुखदेव विहार,ओखला विहार,जामिया, शाहीन,वसंत विहार,दिल्ली गेट,RK पुरम,शिवजी स्टेडियम,मुनीरका, RTO,प्रगति मैदान आदि। वहीँ जामिया नगर के आस-पास के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को भी बंद कर दिया गया है। अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ने 5 जनवरी तक यूनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया है और एग्जाम को भी कैंसल कर दिया गया है।