पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का निधन

पूर्व विदेश मंत्री और बीजेपी की सीनियर लीडर सुषमा स्वराज(67 वर्ष )का मंगलवार रात दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया। वे लंबे अर्से से बीमार चल रही थीं और उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था। सुषमा का पार्थिव शरीर एम्स से उनके घर ले जाया गया। भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा की बुधवार दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक सुषमा के पार्थिव शरीर को भाजपा मुख्यालय में रखा जायेगा।

सुषमा स्वराज ने पहला चुनाव 1977 में हरियाणा की अम्बाला सीट से लड़कर विधायक की पद से अपनी राजनितिक क्षेत्र में जगह बनाई। सुषमा ने वर्ष 2014 से वर्ष 2019 तक विदेश मंत्री का कार्यभाल संभाला। बीजेपी के शासन के दौरान सुषमा दिल्ली की मुख्यमंत्री भी रही थी। उन्हें दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री बनने का गौरव प्राप्त हुआ था। कुछ दिनों से स्वास्थ ख़राब रहने के कारण ही उन्होंने 2019 लोकसभा चुनाव से खुद को अलग रखा था।

अटल, मनोहर पर्रिकर ,सुषमा अब अरुण जेटली, भाजपा को बड़ा राजनैतिक झटका।

सुषमा स्वराज के जीवन से जुड़े  कुछ तथ्य

सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 को हुआ था। उनका परिवार राष्ट्रीय  स्वयंसेवक संघ से जुड़ा था। उन्होंने अंबाला में एसडी कॉलेज अम्बाला छावनी से बीए किया और पंजाब यूनिवर्सिटी से चंडीगढ़ से लॉ की पढ़ाई की थी। और 1973 में सुप्रीम कोर्ट में वकील के तौर पर अभ्यास शुरू की। सुषमा का विवाह स्वराज कौशल के साथ 1975 में  हुआ। जो की वकील है। और मिजोरम के गवर्नर भी रह चुके हैं। सुषमा को एक बेटी बांसुरी हैं , जो की पेशे से वकील है। सुषमा स्वराज ने 1974 के छात्र आंदोलन में भी बढ़-चढकर हिस्सा लिया था। सुषमा स्वराज के निधन की खबर सुनते ही डॉ. हर्षवर्धन, नितिन गडकरी, मनोज तिवारी एम्स पहुंचे।