शहीद जवान को माँ और बहन ने दिया कन्धा, वहीं दो महीने की बेटी ने दी मुख्याग्नि

google

पंजाब : जम्मू-कश्मीर में हिमस्खलन की चपेट में आने से शहीद हुए सेना के पांच जवानों में से एक रणजीत सिंह सलारिया का शुक्रवार को पंजाब के गुरदासपुर स्थित उनके पैतृक गांव में पूरे सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार के दौरान उस समय हृदय विदारक दृश्य देखने को मिला जब 26 वर्षीय शहीद जवान को उनकी करीब दो महीने की बेटी परी ने मुखाग्नि दी।

महाराष्ट्र सीएम के ऐलान से नाराज शिरडी, अनिश्चितकालीन बंद

आपको बता दे की शहीद के पाथिर्व शरीर को उनकी माँ और बहन ने कन्धा दिया। यह दृश्य देख कर पूरा पंजाब शोक में डूबा हुआ है। शहीद सलारिया के पिता हरबंस सिंह ने बताया कि शहीद सलारिया की बेटी परी का जन्म पिछले साल दिसंबर में हुआ था और जम्मू-कश्मीर में ड्यूटी पर तैनात होने की वजह से उसके पिता ने उसे एक बार भी नहीं देखा था।

देश की रक्षा करते हुए वीरगति हासिल करने वाले शहीद रणजीत सिंह सलारिया को उसकी दो महीने की बेटी ने मुखाग्नि दी. गुरुदासपुर निवासी शहीद रणजीत सिंह जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के उरी सेक्टर में तैनात थे। लेकिन हाल ही में आए बर्फीले तूफान की चपेट में आने की वजह से वो शहीद हो गए। इसी दौरान अधिकारियों ने बताया कि सलारिया का पार्थिव शरीर सिधपुर गांव जब पहुंचा तब बड़ी संख्या में स्थानीय लोग श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए वहां मौजूद थे और वे ‘‘रणजीत सिंह अमर रहे’’ के नारे लगा रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here