सपा की वर्चुअल रैली में नही हुआ कोरोना गाइडलाइंस का पालन, FIR दर्ज

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित समाजवादी पार्टी कार्यालय में शुक्रवार को हुए सदस्यता सम्मेलन में उमड़ी भीड़ पर चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया हैं। चुनाव आयोग के निर्देश पर गौतमपल्ली थाने में महामारी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। आयोग ने जिला निर्वाचन अधिकारी डीएम को जांच के आदेश दिए। इसके बाद लखनऊ के डीएम अभिषेक प्रकाश ने एक टीम को भेजकर वीडियोग्राफी कराई। जहाँ पर कोविड नियमों की अनदेखी करते हुए हज़ारों की भीड़ एकत्रित थी।

बिना अनुमति किया जा रहा था आयोजन

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने भारतीय जनता पार्टी के दो मंत्री और 6 विधायक समेत कई पूर्व विधायकों को पार्टी की सदस्यता स्थित पार्टी कार्यालय पर दिलाई। जानकारी के मुताबिक समाजवादी पार्टी का कार्यक्रम बिना अनुमति के किया गया है। सूचना मिलने पर मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस टीम को सपा दफ्तर भेजा गया है। रिपोर्ट के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है।

PAN Card-Aadhar Card से नहीं है लिंक तो जुर्माना देने के लिए रहे तैयार

कोरोना गाइडलाइन का नही हुआ पालन

कोरोना की तीसरी लहर के बीच हो रहे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में संक्रमण की रोकथाम को लेकर चुनाव आयोग ने गाइडलाइन जारी की है। सभी दलों को इन गाइडलाइंस का पालन करते हुए चुनाव प्रचार करना है, पर आज समाजवादी पार्टी कार्यालय पर सदस्यता समारोह में हजारों कार्यकर्ताओं की भीड़ जुट गई। स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्म सिंह सैनी सहित 6 विधायकों के सपा जॉइन करने का मौका था। इन सब ने पिछले दिनों भारतीय जनता पार्टी छोड़कर समाजवादी पार्टी ज्वाइन की है। इस मौके पर पार्टी की ओर से वर्चुअल रैली का आयोजन किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here