प्रदेश भर में बड़े स्तर पर चलाया जायेगा फाइलेरिया रोग के प्रति जागरूकता अभियान

प्रदेश के प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री देवेश चतुर्वेदी ने बताया कि प्रदेश सरकार, केन्द्र सरकार के साथ फाइलेरिया रोग के उन्मूलन के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेशभर में जागरूकता अभियान चलाया जाये। और लोगों को फाइलेरिया रोग की गम्भीरता, कारण और बचाव की जानकारी दी जाये।

प्रमुुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य आज यहां विकास भवन, जनपथ स्थित सभाकक्ष में फाइलेरिया उन्मूलन के लिए नवम्बर में स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाये जाने वाले अभियान की तैयारियों की समीक्षा बैठक कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिया कि जागरूकता अभियान के लिए रेडियो पर इसका प्रसारण करवाया जाये, स्कूलों में प्रार्थना सभा के बाद बच्चों को जानकारी दी जाये तथा प्रभातफेरी आदि इन सभी प्रयत्नों से लोगों को इस रोग से जागरूक किया जा सकता है। उन्होंने समीक्षा बैठक में कहा कि रोग नियंत्रण हेतु प्रदेशभर में दवा के वितरण के समय पर ही लाभार्थी को दवा के सेवन के बारे में जानकारी दी जाए।

अवैध डेयरी के विरुद्ध अभियान में ज़ब्त किये गए 62 पशु

प्रमुख सचिव ने कहा कि दवा का वितरण लाभार्थी के भोजन के समय से पहले सुनिश्चित किया जाये। जिससे उन्हें अपने सामने ही दवा खिलाई जा सके। और स्कूलों में बच्चों को दवा खिलाने के बाद उनकी अंगुली में मार्कर से निशान लगा दिया जाये, जिससे पता रहे की दवा किसको खिलाई जा चुकी है। फाइलेरिया उन्मूलन हेतु प्रदेश के 19 जनपदों इलाहाबाद, औरैया, चन्दौली, इटावा, फर्रूखाबाद, फतेहपुर, गाजीपुर, हरदोई, कन्नौज, कानपुर नगर, कानपुर देहात, कौशाम्बी, खीरी, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, रायबरेली, सीतापुर, सुल्तानपुर तथा उन्नाव में माह नवम्बर में एम0डी0ए0 (मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन) कार्यक्रम चलाया जायेगा। इसका उद्देश्य फाइलेरिया रोग के प्रति जन समुदाय में जागरूकता पैदा करना, रोग से बचाव एवं नियंत्रण हेतु जन समुदाय को दवा का सेवन कराना है, जिससे प्रदेश से इस रोग को खत्म किया जा सके।

प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य श्री देवेश चतुर्वेदी की अध्यक्षता में सम्पन्न समीक्षा बैठक में सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य हेकाली झिमोमी, निदेशक संचारी रोग नियंत्रण, चिकित्सा विभाग के सभी संबंधित अधिकारी तथा सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के नोडल अधिकारी सहित अन्य 11 विभागों के नोडल अधिकारी उपस्थित थे।