FATF की फटकार, 150 सवालों के जवाब मांगे पाक से

what is fatf
image source - google

Finacinal Action Task Force (FATF) ने पाकिस्तान को 150 सवाल भेजे है और इन सवालों के जवाब देने को कहा है। ये सवाल मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद पर होंगे। क्योंकि FATF की अक्टूबर में हुई बैठक में पाक से कुछ सवाल पूछे गए थे, जिनका पाक जवाब नहीं दे पाया। इसके बाद पाकिस्तान को फरवरी 2020 तक टाइम एफएटीएफ ने दिया था, जोकि अब नजदीक है और उससे पहले ही FATF ने फिर 150 questions भेज दिए है। खबर के अनुसार फरवरी 2020 में होने वाली बैठक में पाकिस्तान से इन सवालों के जवाब मांगे जा सकते है। यदि इस बार भी पाकिस्तान एफएटीएफ को जवाब नहीं देता है तो उसे ब्लैक लिस्ट किया जा सकता है। फिलहाल पाकिस्तान ग्रे लिस्ट में है।

एफएटीएफ क्या है – What is FATF

FATF का पूरा नाम Financial Action Task Force है। इसकी स्थापना 1989 में पैरिस में G-7 ग्रुप ने की थी। इसकी स्थापना इस लिए की गयी थी,जिससे एक ऐसी अंतराष्ट्रीय संस्था हो जो देश दुनिया में होने वाली आतंकी फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग पर नजर रखी जा सके और उसपर रोक लगायी जा सके। जो निकाय FATF में फैसले लेता है उसको एफएटीएफ प्लेनरी कहा जाता है। इसमें 37 सदस्य देश शामिल है और 2 क्षेत्रीय संगठन है।

एफएटीएफ पाकिस्तान की किस्मत का फैसला आज करेगा

भारत FATF का सदस्य 25 जून 2010 को बना। एक साल में इसकी 3 बैठक होती है। इस समय FATF के अध्यक्ष रिपब्लिक ऑफ चाइना के जियांगमिन लियू हैं। हर एक साल में इसके अध्यक्ष बदलते रहते है। इसकी दो सूची है, एक ग्रे लिस्ट दूसरी ब्लैक लिस्ट। ग्रे लिस्ट में उन देशों को रखा जाता है जो Money Laundering और Terrorism financing पर रोक लगाने में असमर्थ रहते है। FATF उन देशों को पहले चेतावनी देता है और इसपर रोक लगाने को कहता है। इसके बाद भी यदि वो देश कार्यवाही करने में असमर्थ रहता है तो उसे ब्लैक लिस्ट में डाल दिया जाता है। ब्लैक लिस्ट देश को अंतराष्ट्रीय संस्थाओं से कर्ज नहीं मिलता। जिससे उस देश की आर्थिक स्थिति कमजोर हो सकती है।