कृषि संशोधन बिल के विरोध में किसानों ने रोकी रेलवे की रफ्तार, 3 दिन में इतने करोड़ नुकसान होने का अनुमान

punjab farmer protest
image source - google

आज गुरुवार को पंजाब में किसान मजदूर संघर्ष समिति ने कृषि बिल के विरोध में ‘Rail Roko’ आंदोलन किया। फिरोजपुर में किसानों ने रेलवे ट्रैक पर टेंट लगाकर नारेबाजी की। जिसकी वजह से कई मालगाड़ी, पैसेंजर ट्रेनों के संचालन में रुकावट पैदा हुई।

रेलवे पहले से सतर्क

कृषि बिल के विरोध में किसानों द्वारा किया जा रहा रेल रोको आंदोलन कहीं हिंसक ना हो जाए, इसके लिए रेलवे पहले से ही सतर्क है और Tracks के आसपास आरपीएफ तैनात करने की बात कही है।

होगा करोड़ों के नुकसान

बता दें 24 से 26 सितंबर तक किसान मजदूर संघर्ष कमेटी ने ‘रेल रोको’ आंदोलन करने की बात कही है। इस आंदोलन की वजह से करोड़ों का नुकसान होने वाला है। क्योंकि किसानों द्वारा रेल ट्रैक पर आंदोलन करने से रेलवे की रफ्तार थम जाएगी।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने बताया कृषि बिल में संशोधन से किसानों को क्या होंगे लाभ

जानकारी के अनुसार इन 3 दिनों में करोड़ों का नुकसान होने वाला है और मालगाड़ी से जाने वाला सामान भी समय पर नहीं पहुंच पाएगा। मालूम हो इनमें कोविड-19 से जुड़े इक्विपमेंट्स, दवाइयां और खाद्य पदार्थ भी हैं। जिन्हें माल गाड़ियों से पहुंचाया जाना आवश्यक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here