एकता की मिसाल, इकबाल अंसारी दिखे आचार्य सत्येंद्र दास के साथ

google

अयोध्या के मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है। अब अयोध्या की विवादित ज़मीन पर राम मंदिर का निर्माण होगा। सुप्रीम कोर्ट के इस बड़े फैसले के बाद एक बार फिर से एकता की मिसाल देखने को नज़र आयी जब मुस्लिम धर्मगुरु इकबाल अंसारी रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास से मिलने उनके आश्रम में पहुँच गए।

इकबाल अंसारी ,राशिद फिरंगी महली ने कोर्ट के आदेश का किया स्वागत

मुस्लिम धर्मगुरु इकबाल अंसारी जब आचार्य सत्येंद्र से मिलने के लिए आश्रम गए तो आचार्य सत्येंद्र दास ने बड़े ही खुले दिल के साथ उनका स्वागत किया। इस मुलाक़ात के दौरान इकबाल अंसारी ने कहा कि “फैसला सुप्रीम कोर्ट का है मैंने पहले भी कहा था जो फैसला आएगा उसे मानेंगे और आज भी कहते हैं कि फैसला जो भी आया है उसको हम स्वीकार कर रहे हैं। हम अयोध्या से आपसी भाईचारे की बड़ी मिसाल पूरी दुनिया को दे रहे हैं”।

राम जन्म भूमि पर रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने मुस्लिम धर्मगुरु इकबाल अंसारी की बात पर कहा कि “इकबाल अंसारी की बड़ी अहम भूमिका रही है पूरे देश में भाईचारे की मिसाल पेश की है”।