इटावा: गर्भवती महिला के पेट में डॉक्टरों की लापरवाही से निकला कपडा

etawah news
etawah news

इटावा। यूपी के इटावा जिले से डॉक्टरों की लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है,जहाँ एक प्राइवेट नर्सिंग होम 17 दिन के अंदर एक महिला की जान पर बनी  तीन बड़े ऑपरेशन होने से जान जाने का ख़तरा, प्रेग्नेंट महिला के ऑपरेशन के समय बच्चेदानी में छूटे मॉब से महिला की हालत चिंताजनक, तीसरा ऑपरेशन कर पेट मे छूटे मॉब (कपड़ा) को निकालने वाले डॉक्टर ने कहां ऑपरेशन के समय मॉब (कपड़ा) छोड़ना बड़ी लापरवाही जा सकती थी महिला की जान वही इस बारे में मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहां शिकायत आने पर इस लापरवाही को लेकर कार्यवाही की जायेगी

etawah  news
etawah news

इटावा के स्टेशन बजरिया स्तिथ एक निजी नर्सिंग होम पर बड़ी लापरवाही का लगा है आरोप यहां 17 जुलाई को एक गर्भवती महिला डिलीवरी के लिए भर्ती की जाती है घर वालो की माने तो महिला का बड़ा ऑपरेशन होने के बाद पहला बच्चा होता है कुछ दिन भर्ती रहने के बाद महिला घर चली जाती है घर जाते ही महिला के पेट मे तकलीफ शुरू हो जाती है जिसके बाद दोबारा महिला को रघुकुल अस्पताल लाया जाता है और सारी बात डॉक्टर को बताई जाती है तब अस्पताल की ही महिला नर्स ने फोन कर परिजनों को जानकारी दी कि महिला के पेट गलती से मॉब( एक कपड़ा ) जो कि ब्लीडिंग को रोकने के प्रयोग किया जाता है वह रह गया था।

etawah news

परिजनों का कहना है कि इनको जानकारी दिए बिना डॉक्टर्स ने कपड़ा निकालने के लिए दोबारा ऑपरेशन कर डाला लेकिन इतने पर भी कपड़ा नही मिलता है और आनन फानन में महिला का पेट सिल दिया जाता है और घर वालो से कह दिया जाता है कि महिला को हर्निया की शिकायत थी घर वालो को शक होने पर महिला का दूसरी जगज अल्ट्रासाउंड और सी टी स्केन कराया जाता है जिसमे स्पष्ट हो जाता है कि महिला के पेट के कोई चीज़ छूती हुई है जिसके बाद परिजन तुरंत महिला को दूसरे निजी अस्पताल ले जाते है।जहां आज उसका तीसरा ऑपरेशन कर मॉब ( कपड़े ) को निकाला जाता है तीसरा ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर ने बताया कि यह बड़ी लापरवाही थी और इससे महिला की जान भी जा सकती थी।

इटावा के सी एम ओ से बात की तो उन्होंने पूरे मामले में जांच की बात कह बचते नज़र आये क्योंकि इस पूरे घटनाक्रम में लापरवाही में एक सरकारी डॉक्टर की पहले ऑपरेशन करने की बात सामने आ रही है ओर जिनकी गलती से एक महिला के दो हफ्ते के अंदर तीन बड़े ऑपरेशन करने पड़ गए इस पूरे मामले में स्वास्थ्य विभाग और लापरवाही करने वाले अस्पताल के तार मिलते हुए नज़र आ रहे है क्योंकि अस्पताल में तैनात एक सरकारी डॉक्टर आखिर कैसे एक निजी अस्पताल में ऑपरेशन करने जा सकता है ,हालांकि यह जिला अस्पताल का डॉक्टर फिलहाल संविदा पर ज़िला अस्पताल में तैनात है।

रिपोर्टर- चंचल दुबे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here