Corona: लगातार बढ़ती मृत्युदर को देखते हुए पूर्व विधायक सुरेंद्र बहादुर सिंह ने लिया यह बड़ा फैसला

Electrical Crematorium Center
image source - google

रायबरेली जिले के दानवीर पूर्व विधायक सुरेन्द्र बहादुर सिंह ने कोरोना काल में जिला प्रशासन की मदद को अपने हाथ बढ़ाये हैं। जहाँ उन्होने डलमऊ श्मशान घाट में विद्युत शवदाह केन्द्र बनवाये जाने की बात कही है। जानकारी देते हुये पूर्व विधायक सुरेन्द्र बहादुर सिंह ने कहा कि कोरोना संक्रमण से मृत्युदर का आंकड़ा काफी बढ़ गया है।

ऐसी परिस्थितियों में श्मशान घाटों पर शवों के निस्तारण में काफी असुविधाओं की जानकारी मिल रही हैं। लोगों को लकड़ी उपलब्ध नहीं हो पा रही है। हो भी रही है तो मुंहमांगी कीमत पर दाह संस्कार गंगा घाट पर कराया जा रहा है।गंगा की स्वच्छता व पवित्रता एक कठिन कार्य हो गया है।

पर्यावरण व स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी विषम परिस्थितियां हानिकारक हैं। यहां तक कि अधजले शवों को भी श्मशान घाट पर देखे जाने की जानकारी मिल रही है।ऐसी विषम परिस्थितियों में पूर्व विधायक सुरेंद्र बहादुर सिंह ने रायबरेली जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव को अपना एक प्रस्ताव भेजा है।

जिसमें रायबरेली से डलमऊ श्मशान घाट पर पूर्व विधायक सुरेंद्र बहादुर सिंह ने अपने स्वयं के खर्च पर विद्युत शवदाह केन्द्र बनवाकर मदद करने की इच्छा जाहिर की है।जहाँ जिला प्रशासन की अनुमति मिलते ही विद्युत शव दाह केन्द्र बनवाये जाने का कार्य शुरू कर दिया जायेगा।

पीएम मोदी से दिल्ली तक ऑक्सीजन पहुंचाने के लिए मदद क्यों मांगी सीएम केजरीवाल ने?

जिसमें आसपास के जिले के लोगों को भी काफी सहूलियत मिलेगी। अभी हाल में ही रायबरेली के तेजगाव से इस अभियान की शुरूआत की थी जहाँ सरेनी के पूर्व विधायक सुरेंद्र बहादुर सिंह ने राम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़ 11 लाख 11हजार 11सौ 11 रुपये की निधि मन्दिर निर्माण के लिए समर्पित की थी।

रिपोर्ट – अभिषेक बाजपेयी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here