सीतापुर के जिला अस्पताल में लगती हैं मरीज़ों की लम्बी कतारें

  • अस्पताल परिसर में घूमते रहते हैं आवारा पशु और कोई भी नहीं दिखाई देता उनको रोकने या भगाने वाला
  • परचा बनवाने, डॉक्टर को दिखाने और दवा वितरण काउंटर पर महिलाओं की भी लम्बी होती हैं कतारें

उत्तर प्रदेश के जनपद सीतापुर में अस्पतालों की बहुत ही दयनीय स्थिति है। अस्पताल परिसर में आवारा पशु इधर उधर घूमते रहते हैं और उनको रोकने या भगाने वाला कोई भी नहीं दिखाई देता है। सीतापुर के जिला अस्पताल में दूर दराज से अपना इलाज कराने आए मरीज़ भी परेशान हो जाते हैं, और दिन भर उनको लाइन में लगना पड़ता है। मरीज़ों को पहले लाइन में लगकर परचा बनवाना पड़ता है फिर डॉक्टर को दिखाने के लिए प्रतीक्षा में काफी देर तक खड़ा रहना पड़ता है। जिसमे बड़ी लंबी लंबी लाइनें होती हैं। जब डाक्टर को दिखा दो तो दवा वितरण काउंटर पर जाकर लाइन लगाना पड़ता है। इसमें महिलाओं की भी लम्बी कतारें होती हैं। जिला अस्पतालों की यह समस्या आम हो चुकी है। अच्छा भला व्यक्ति भी लाइन में लगे लगे बीमार हो जाता है।

भारतीय किसान यूनियन के टिकैत ग्रुप ने मुख्यमंत्री को सौंपा 21 सूत्रीय ज्ञापन।

जनपद सीतापुर के अस्पतालों के इस बुरे हाल से अधिकारी अनजान है। जब संबंधित अधिकारियों से इस बारे में बात की गई तो उन्होंने बताया कि अस्पताल के मरीज़ों की परेशानी को देखते हुए यहां पर कर्मचारी नियुक्त किए जाते हैं ताकि उनकी समस्याओं का समाधान होता रहे और किसी भी मरीज़ को परेशानी का सामना ना करना पड़े। अगर इस तरह की कोई भी शिकायत है तो उस पर अधिकारियों द्वारा ध्यान दिया जाएगा और समस्याओं को जल्द से जल्द समाप्त करने का प्रयास जाएगा l