धर्मांतरण के शक में दो ननो को स्टेशन पर उतारे जाने को लेकर सियासत तेज़, मामला पहुंचा सीएम तक

dharma pariwartan
image source - google

उत्कल एक्सप्रेस में निजामुद्दीन से 19 मार्च को राउरकेला जा रही है दो नन और उनके साथ दो लड़कियां से कथित दुर्व्यवहार की कहानी देश में खबरों की सुर्खियां बन गई है। जबकि मामला बिल्कुल विपरीत है. झांसी में रात्रि 8:00 बजे के आसपास उत्कल एक्सप्रेस पहुंचने पर दो नन और उनके साथ दो लड़कियों को धर्मांतरण के शक में अजय शंकर तिवारी द्वारा जीआरपी झांसी को दी गई लिखित तहरीर के बाद ट्रेन से बाहर उतारा गया. लेकिन जांच में मामला गलत निकला। जीआरपी ने उनको दूसरी ट्रेन से रवाना भी कर दिया।

केरल सरकार को दी जानकारी

जब वह युवतियां वापस केरला पहुँची तो उन्होंने इसकी जानकारी केरल सरकार और कैथोलिक विशप काउंसिल को दी। इसके बाद केरल के मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने गृहमंत्री को पत्र लिखकर बताया कि महिलाओं को बिना महिला पुलिस के जबरन उतारा गया। यह राष्ट्र भावना के विपरीत है। उन्होंने पूरे मामले की जांच का आग्रह किया है। वहीं विशप काउंसिल ने भी पीएमओ को पत्र लिखकर घटना पर कड़ा एतराज जताया है। बताते चले कि इस मामले में सियासत भी तेज हो गयी है, इस पूरे मामले में राहुल गांधी, मायावती व केरल के मुख्यमंत्री ने कड़ा एतराज जताया है।

झांसी में 19 मार्च की देर शाम उत्कल एक्सप्रेस की बोगी का यह सीन है यहां पुलिस वाले उनसे पूछताछ के लिए जल्दी ट्रेन से उतरने के लिए कह रहे हैं. प्लेटफार्म से जीआरपी थाने ले जाया गया यहां पूछताछ के बाद शिकायत गलत पाई गई। इस पूरे मामले को गृहमंत्री ने संज्ञान में लेते हुए कहा है कि दोषी कोई भी हो वो बख्शा नहीं जाएगा।

दो नैनो और दो युवतियों को ट्रेन से उतारे जाने के प्रकरण में झांसी जीआरपी एसपी सौमित्र यादव ने बताया कि यह लोग दिल्ली से राउरकेला सफर कर रहे थे। विद्यार्थी परिषद के एक व्यक्ति ने 182 कंट्रोल रूम को सूचना दी की ट्रेन में दो लड़कियों को धर्म परिवर्तन करने के लिए ले जा रहे हैं।

ट्रेन में हुई पूछताछ और जांचे गए लड़की के कागजात, जिसका वीडियो प्रियंका गाँधी ने ट्वीट कर BJP पर साधा निशाना

एसपी जीआरपी झाँसी सौमित्र यादव ने कहा कि इसके लिए अजय शंकर तिवारी ने थाने में तहरीर दी थी। जांच के बाद पता चला कि दोनों लड़कियां राउरकेला उड़ीसा की थी और दोनों जन्म से ही क्रिश्चियन थी। झांसी एसपी जीआरपी सौमित्र यादव ने बताया कि 19 तारीख को ट्रेन वाले प्रकरण के संबंध में एक जांच आईजी रेलवे के आदेश पर कल दी गई है और मैं उसी जांच के तहत आया हूं, जांच की कार्रवाई चल रही है, जांच की कार्रवाई पूर्ण होने के बाद ही उचित कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here