उत्तर प्रदेश सरकार का बड़ा फैसला डोर टू डोर पहुंचाया जाएगा सामान, जोमैटो-स्विगी…

coronavirus
image source - google

कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 21 दिनों का लॉकडाउन की घोषणा किए जाने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज सुबह बैठक बुलाई। इस बैठक में लोगों की समस्याओं को दूर करने को लेकर कई अहम फैसले लिए गए। बैठक के बाद यूपी अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने जानकारी दी कि बैठक में तय हुआ है कि लोगों की रोजमर्रा की जरूरतों का सामान उनके घर तक पहुंचाया जाएगा और इन सामानों का मूल्य निर्धारित किया जाएगा।

इन सब के साथ ही उत्तर प्रदेश सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत प्रदेश में पूरी तरह से पान-मसाला, गुटखा के निर्माण और बिक्री पर रोक लगा दी गई है। यह रोक अगले 21 दिनों तक रहेगी।

12000 पहुंचाएंगे रोजमर्रा का सामान

लोगों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए डोर टू डोर डिलीवरी की व्यवस्था की जाएगी। इस काम में 12000 वाहन लगाए जाएंगे। इनमें फल, सब्जी, मेडिकल स्टोर के वाहन आदि शामिल होंगे। इसके साथ ही श्रमिकों और दिहाड़ी मजदूरों के खाने-पीने की व्यवस्था के लिए कम्युनिटी किचन की शुरुआत की जाएगी। कम्युनिटी किचन के लिए धार्मिक स्थानों मंदिर, गुरुद्वारा ,मस्जिद आदि में सामूहिक भोजन तैयार कराकर 5419 गाड़ियों द्वारा गरीबों और मजदूरों तक पहुंचाया जाएगा।

लॉकडाउन का पालन न करने वालों पर हुई कार्यवाही

देश में कोरोना वायरस जैसी महामारी अपने पैर फैला रही हैं ।प्रतिदिन कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है ।इसके बाद भी कुछ लोग इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। पूरे देश में लॉकडाउन किया गया है। जिससे लोग घरों से बाहर ना निकले पर कुछ लोग बहाने बनाकर घरों से बाहर निकल रहे हैं। जिसके बाद सरकार ने ऐसे लोगोें के साथ सख्ती से पेश आने को कहा है। इस आदेश के बाद अभी तक 1788 एफ आई आर दर्ज कि जा चुकी हैं और 5592 लोगों के चालान काटे जा चुके हैं।

Rakhi Sawant ने रो-रोकर भगवान से मांगी माफ़ी, वीडियो देख यूजर्स ने जमकर ट्रोल

डोर टू डोर सर्विस होगी चालू

लोग अपने घरों से बाहर ना निकले इसके लिए सरकार डोर टू डोर सर्विस की शुरूआत कर रही है किस सर्विस में रोजमर्रा की आवश्यकताओं का सारा सामान लोगों तक तय मूल्य में पहुंचाया जाएगा। इसके साथ ही जोमैटो, स्विगी जैसे घर-घर खाना पहुंचाने वाली कंपनियों को अनुमति दी जाएगी। जिला अधिकारी स्तर पर हर क्षेत्र में 2 से 4 मोबाइल वैन होंगी और जनपद स्तर के अधिकारी निर्धारित करेंगे कि लोगों को समस्या ना हो। हालांकि बाद में मोबाइल वैनों की संख्या बढ़ाई जाएगी।

इमरजेंसी सेवाएं रहेंगी चालू

फुटकर किराना की दुकान आदि पूरे टाइम खुली रहेंगी। इनके लिए कोई समय सीमा तय नहीं की गई है। बाकी इमरजेंसी सेवाएं पहले की ही तरह रहेंगी। इसके साथ ही एडवाइजरी जारी की गई है कि यदि किसी में कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई देते हैं तो स्वास्थ्य विभाग की हेल्पलाइन नंबर 1800 180 54 45 पर फोन करके जानकारी दे सकते हैं। वही गर्भवती महिलाओं के लिए 102 नंबर पर चिकित्सा की सुविधा दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here