SC,ST आयोग के अध्यक्ष बृजलाल की कॉन्फ्रेंस

SC, ST Commission Chairman

राजधानी लखनऊ के इंदिरा भवन में आज SC,ST आयोग के अध्यक्ष बृजलाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की, आज उनके कार्यकाल का आखिरी दिन भी था। इस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने अपने कार्यकाल में हुए कार्यों का लेखा-जोखा व उपलब्धियों के बारे में पत्रकारों को रूबरू कराया । इसके अलावा 1 वर्ष 7 माह के अपने इस कार्यकाल पर उन्होंने बोला की नियम के अनुसार अब मेरी उम्र पूरी हो गयी है।

पत्रकारों को इन जानकारियों से भी अवगत कराया –

उन्होंने मिडिया से कहा की वह इलाहाबाद विश्वविद्यालय से पढ़े हुए हैं और मेरिट रैंक होल्डर भी हैं जिसमे उनकी 6ठी रैंक थी। और रही बात कार्यकाल समाप्त होने के बाद की तो उस पर पर उन्होंने कहा की Sc st आयोग से मेरा कार्यकाल समाप्त हो रहा है, इसके बाद मैं भाजपा का कार्यकर्ता भी हूँ और संगठन के लिए ही काम करूंगा।

इसके बाद उन्होंने बताया की जब वह 18 अप्रैल 2018 में आया थे तब उन्हें  5979 केश मिले थे।जिसमे सभी की सुनवाई उन्होंने कोर्ट में ही की है। सरकार पर बात करते हुए उन्होंने बताया की भाजपा सरकार ने आयोग में कुछ संसोधन किये जैसे की –

इस सरकार ने Fir पर 25% सहायता 50% चार्जशीट पर उसके बाद फैसला आने पर 25% मिलती है।
मारपीट में इस सरकार ने राशि बढ़ाकर 1 लाख रु कर दी। मर्डर में इस सरकार ने राशि बढ़ाकर 8 लाख 25 हजार रु सहायता राशि कर दी।अनुसूचित जाति के व्यक्ति की हत्या हो जाती है तो सरकार द्वारा परिवार को 5 हजार रु पेंशन लागू की गई।

14 जून 2014 से जितने केश थे उनको तैयार करके जिले में भेज दिया गया है। मथुरा बहुत से केश मीडिया ने छापे एक केश प्रिंस नाम के व्यक्ति का था जिसमे सरकार ने प्रिंस की हत्या को गम्भीरता के साथ लिया और उचित कार्रवाई की।
भाजपा सरकार ने आयोग के सदस्य सभी अनुसूचित जाति और जनजाति के बनाये।

इसके अलावा जिलो में थानाध्यक्षो की सूची में sc, st के थानेदारों की संख्या कम थी और जब मैंने यहाँ देखा तो मैंने डीजीपी को पत्र लिखा उसके बाद डीजीपी ने इसे संज्ञान में लिया।