सीएम योगी पहुंचे माता के दरबार, नहीं लगाएंगे जनता दरबार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नवरात्रि के पहले दिन रविवार की शाम गोरखनाथ मंदिर के शक्तिपीठ में कलश स्थापना की। उसके बाद परंपरा निभाने के लिए नहीं निकले सीएम योगी सोमवार की सुबह तक अपने आवास से। मंदिर प्रबंधक के अनुसार दोपहर 2:00 बजे के करीब लखनऊ रवाना होने तक मुख्यमंत्री अपने आवास में ही रहेंगे। योगी जी नौ दिन तक व्रत रहेंगे।

दो घंटे चली माँ ब्रह्मचारिणी की आराधना 

परंपरा के अनुसार गोरक्षपीठाधीश्वर को कलश स्थापना के बाद पूरे नवरात्र अपने आवास में ही निवास करना होता है। परन्तु मुख्यमंत्री पद पे होने के कारण योगी के लिए ऐसा करना संभव नहीं है। लेकिन वह जब तक मंदिर में रहेंगे अपने आवास से बाहर नहीं निकलेंगे। मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ उनके जाने के बाद परंपरा का निर्वहन करेंगे। इससे पहले मुख्यमंत्री योगी ने सोमवार की सुबह शक्तिपीठ में मां भगवती के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूरे विधि-विधान से आराधना की। आराधना करीब दो घंटे चली।

आज से 5 दिन तक ‘पीठाधीश्वर’ की भूमिका में नजर आएंगे मुख्यमंत्री योगी

प्रशासनिक अधिकारियों ने सुनी जनता की गुहार 

मुख्यमंत्री के गोरखपुर में मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सोमवार की सुबह अपनी समस्या लेकर मंदिर पहुंचे फरियादियों को मुख्यमंत्री कैंप कार्यालय के प्रभारी मोती लाल सिंह ने अपनी टीम के साथ सुना। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद रहे।