सीएम योगी का वाराणसी दौरा, विकास कार्यों की किया समीक्षा

tour
google

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को दो दिनों के लिए वाराणसी के दौरे पर गए हुए हैं। यहाँ उन्होंने सर्किट हाउस सभागार में जनपद के विकास कार्यों की समीक्षा किया। उन्होंने कहा कि कशी नगरी में सेवा करना बड़े ही सौभाग्य की बात है और यहाँ विकास के लिए बहुत से कार्य किये गए हैं। मुख्यमंत्री ने दुनिया भर में कशी को रोल मॉडल की तरह पेश करने के निर्देश दिए और कहा कि कशी का ध्यान रखते हुए स्मार्ट सिटी समेत हर बुनियादी सुविधा देने का प्लान बनाए जहाँ सड़क, पानी और बिजली से सम्बंधित कोई भी दिक्कत न हो।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाबा काल भैरव मन्दिर की तरफ जाने वाले रास्ते समेत आस-पास के इलाके को विस्तारित करने के निर्देश दिए। साथ ही सभी गावों में खेल के मैदान भी विकसित करने के लिए कहा। उन्होंने आगे कहा कि वाराणसी में अन्य विकास के काम भी जल्दी ही चालू किये जाएंगे और इसके लिए धन की कोई भी कमी नहीं है। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से टीम भावना के साथ काम पूरा करने को कहा साथ ही उन्हें समयबद्ध ढंग से गुणवत्ता का ध्यान रख कर काम करने का निर्देश दिया। उन्होंने आगे कहा कि काशी को ऐसा स्वच्छ व सुन्दर रखे ताकि श्रद्धालु और पर्यटक स्वच्छता को महसूस करें लेकिन कूड़े को न जलाएं।

मुख्यमंत्री योगी ने 15 दिन के अंदर सम्बन्धित विभागों को सभी सड़कें ठीक करवाने का आदेश दिया। उन्होंने बताया कि काशी में विद्युत व्यवस्था के लिए अच्छे काम किये गए हैं। राज्य के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 2 फरवरी 2020 से हर रविवार को 2 सालों तक तक आरोग्य मेले लगाए जाएंगे जहाँ सरकारी तथा गैर सरकारी डॉक्टर मौजूद होंगे। उन्होंने बताया कि पशु आरोग्य मेलों में पशुपालकों को जानकारी के साथ मुफ्त में पशुओं का इलाज किया जा रहा है। उन्होंने प्राथमिक विद्यालयों में बाउण्ड्री वॉल, ओपन जिम, भूगर्भ जल संरक्षण के काम जल्दी करवाने का निर्देश दिया।

योगी आदित्यनाथ ने गौ-संरक्षण के लिए लोगों के सहयोग तथा अन्य अन्तर्विभागीय समन्वय द्वारा व्यवस्थाओ को सुनिश्चित कराने को कहा साथ पराली को भी जलाने के बजाए गौ-शालाओं में इस्तेमाल करने का निर्देश दिया। सरकार ने खुरपका, मुंहपका के लिए टीकाकरण योजना चलाई है। उन्होंने आगे कहा कि ठेकेदार कि वजह से किसी भी कार्यदायी संस्था में काम पर असर पड़ता है तो उस ठेकेदार के खिलाफ उचित कार्रवाई कराई जाए साथ ही इसमें एफआईआर दर्ज करा के जेल भेजा जाए।

स्वास्थ्य विभाग में सुधार लाने के लिए हुई समीक्षा बैठक

सिस वरुणा में हुई गड़बड़ी पर मुख्यमंत्री ने ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई करने का भी आदेश दिया है। उन्होंने सभी विकास तथा कल्याणकारी कार्यों की हर सप्ताह, पाक्षिक समीक्षा उच्च अधिकारियों द्वारा करने के लिए कहा साथ ही कहा कि सीवर किसी हाल में वरुणा में नहीं जाना चाहिए। इसके लिए उन्होंने एक महीने के भीतर व्यवस्था को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत काशी में 24,000 से अधिक लोगों का मुफ्त इलाज मिलने की जानकारी दी गई जिसमे 28 करोड़ रुपए का भुगतान भी किया जा चुका है।

वाराणसी में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत अब तक 1,89,000 किसानों को धनराशि भेजी गई है और सभी 1780 मुसहरों को प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत घर दिए जा चुके हैं। इसके अलावा वाराणसी शहर, रामनगर, गंगापुर में 24,417 लोगों के लिए प्रधानमंत्री आवास स्वीकार किये गए हैं। यहाँ अब तक 1222 करोड़ रुपए के बड़े प्रमुख 48 कार्य और परियोजनाएं पूरी हो चुकी हैं जिसमे बीएचयू (BHU) में सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल, वैदिक विज्ञान केन्द्र, राजातालाब विद्युत उपकेन्द्र, 20 प्रमुख सड़कों के निर्माण कार्य, चिकित्सालयों के उच्चीकरण कार्य शामिल हैं। बाकी बचे हुए निर्माणाधीन विकास कार्य साल 2020 पूरे हो जाएंगे।

वाराणसी के मण्डलायुक्त दीपक अग्रवाल ने जनपद में चल रही परियोजनाओं के बारे में प्रस्तुतिकरण किया। इस बैठक के दौरान नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन, पर्यटन एवं धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ. नीलकंठ तिवारी, स्टाम्प एवं पंजीयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविन्द्र जायसवाल समेत अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन व प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।