गांधी परिवार की सुरक्षा में बदलाव, अब विदेश में भी एसपीजी साथ

● पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी के परिवार की सुरक्षा में बदलाव।
● अब सोनिया गांधी, राहुल गांधी व प्रियंका गांधी परिवार के लोगों को विदेश जाने पर भी मिलेगी एसपीजी का सुरक्षा     कवच।
● अभी तक गांधी परिवार के सदस्य के विदेश जाने पर हवाई अड्डे तक ही उन्हे एसपीजी की सुरक्षा मिलती थी।

केंद्र सरकार ने गांधी परिवार को सुरक्षा देने वाले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप को नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इस नए निर्देश के मुताबिक गांधी परिवार के किसी भी सदस्य के विदेश यात्रा पर जाने के दौरान पूरे समय उनके लिए एसपीजी सुरक्षा अनिवार्य कर दी गई है। अब तक एसपीजी सुरक्षाकर्मी पहले विदेशी डेस्टिनेशन (फर्स्ट लोकेशन) तक ही गांधी परिवार के साथ जाते थे।

केंद्रीय गृह मंत्रालय स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप एसपीजी सुरक्षा को लेकर नए बदलाव कर रहा है। जिन्हें भी ये सुरक्षा प्राप्त है अब उनके साथ विदेशी दौरों पर भी एसपीजी के जवान तैनात रहेंगे, यानी कोई भी व्यक्ति जिसे ये सुविधा प्राप्त है उसके साथ जवान भी विदेश का दौरा करेंगे। पहले ऐसा नहीं होता था, लेकिन अब सरकार नियम में बदलाव कर रही है।

सरकार के इस फैसले को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और गांधी परिवार के अन्य सदस्यों के दौरों से जोड़ा जा रहा है। गौरतलब है कि अब तक एसपीजी सुरक्षाकर्मी पहले विदेशी डेस्टिनेशन तक ही गांधी परिवार के साथ जाते थे। इसके बाद गांधी परिवार के सदस्‍य अपनी निजता का हवाला देकर सभी सुरक्षाकर्मियों को वापस भारत लौटा देते थे। इससे आगे की विदेश यात्रा के दौरान उनके लिए जोखिम बढ़ जाता था।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तीन देशों की यात्रा पर हुए रवाना

विदेश यात्रा पर पूरे समय एसपीजी सुरक्षा अनिवार्य

अगर गांधी परिवार के सदस्य इसे स्वीकार नहीं करते हैं तो सुरक्षा कारणों के मद्देनजर उनकी विदेश यात्रा में कटौती भी की जा सकती है। इसके पहले, फर्स्ट लोकेशन के बाद गांधी परिवार के सदस्य अपनी निजता का हवाला देकर सभी सुरक्षाकर्मियों को वापस भारत भेज देते थे। ऐसे में आगे की विदेश यात्रा के दौरान उनके लिए जोखिम बढ़ जाता था।

दिल्ली लौटने तक हर वक्त साथ रहेंगे एसपीजी के जवान

मोदी सरकार द्वारा जारी नए दिशा-निर्देशों के मुताबिक, अब अगर गांधी परिवार का कोई सदस्य लंदन के दौरे पर जाता है तो एसपीजी के सुरक्षाकर्मी दिल्ली लौटने तक उनसे साथ हर वक्त रहेंगे, जैसे कि वे भारत में उनके साथ रहते हैं। अगर पूर्व पीएम राजीव गांधी के परिवार का कोई सदस्य विदेश यात्रा पर जाना चाहता है तो संबंधित देश में भारतीय दूतावास स्थानीय पुलिस के साथ उन्हें एसपीजी सुरक्षा के अलावा भी सुरक्षा मुहैया कराने के लिए बात करेगा।

कांग्रेस ने सरकार के फैसले पर उठाए सवाल

कांग्रेस पार्टी सरकार द्वारा जारी की गई नई गाइडलाइन से नाराज नजर आ रही है। पार्टी की तरफ से कहा गया है कि हर किसी को किसी शख्स की निजता का सम्मान करना चाहिए। कांग्रेस का कहना है कि सुरक्षा तो बहाना है, दरअसल, सरकार गांधी परिवार पर निगाह बनाए रखना चाहती है। वहीं, कांग्रेस से बीजेपी में आए टॉम वडक्कन ने कहा कि अति विशिष्ट लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी केंद्र सरकार पर होती है, इसलिए वीवीआईपी को हर जगह, हर हाल में सुरक्षा सुनिश्चित कराना होता है। उन्होंने कहा कि इसका मकसद हर वक्त सुरक्षा मुहैया कराना है और इसके पीछे निजता में दखल देने जैसी कोई बात नहीं है।

आपको बता दें कि एसपीजी सुरक्षा देश में प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्रियों को दी जाती है। अभी ये सुविधा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा गांधी परिवार को मिलती है। इनमें कांग्रेस अध्यक्ष (अंतरिम) सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा शामिल हैं। पहले ये सुरक्षा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को भी दी जाती थी, लेकिन हाल ही में उनकी सुरक्षा में सिर्फ Z+ कवर कर दिया गया।

क्या है एसपीजी सुरक्षा

यह देश में सबसे ऊंचे स्तर की सुरक्षा है। विशेष सुरक्षा दल एसपीजी( 2 जून1988) को संसद के एक अधिनियम द्वारा बनाया गया था। इसका मुख्यालय नई दिल्ली में स्थित है। इसमें जवानों का चयन पुलिस, पैरामिलिट्री फोर्स (बीएसएफ,सीआईएसएफ,आईटीबीपी,सीआरपीएफ) से किया जाता है। यह बल गृह मंत्रालय के तहत काम करता है।