चांदनी चौक में प्राचीन हनुमान मंदिर तोड़ने के पीछे किसका हाथ?

Chandni chowk temple demolished
image source - google

दिल्ली के चांदनी चौक में मार्ग निर्माण के लिए प्राचीन हनुमान मंदिर को तोड़ दिया गया था। अब यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है और दिल्ली सरकार पर सवाल उठ रहे हैं। वहीं दिल्ली सरकार मंदिर तोड़े जाने का जिम्मेदार नॉर्थ एमसीडी और बीजेपी को ठहरा रही है।

बीजेपी का केजरीवाल सरकार पर आरोप

दिल्ली बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष आदेश गप्ता ने कहा कि दिल्ली के चांदनी चौक में केजरीवाल सरकार ने प्राचीन हनुमान मंदिर तोड़कर हिंदू विरोधी मानसिकता का परिचय दिया है। केजरीवाल सरकार चाहती तो मंदिर बच सकता था। हम मांग करते हैं कि चांदनी चौक सौंदर्यीकरण योजना को रीडिजाइन करके वहां हनुमान मंदिर को बनाया जाए।

आम आदमी पार्टी का बीजेपी पर आरोप 

आम आदमी पार्टी ने कहा कि प्राचीन हनुमान मंदिर को बीजेपी शासित नॉर्थ एमसीडी द्वारा तोड़ा गया है। कोर्ट और पीडब्ल्यूडी के आदेश पर प्राचीन हनुमान मंदिर तोड़ा है। बीजेपी यह बताएं कि उनके मेयर और स्टैंडिंग कमेटी की जानकारी के बिना उनका अधिकारी हाईकोर्ट में शपथपत्र देकर कैसे कह रहे थे कि हमने सारी तैयारी कर ली है मंदिर को तोड़ दिया जाएगा। नॉर्थ एमसीडी और दिल्ली पुलिस बीजेपी के अंडर में है।

विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल का दिल्ली सरकार के खिलाफ प्रदर्शन

चांदनी चौक में प्राचीन हनुमान मंदिर तोड़े जाने से नाराज विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने आज दिल्ली सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि जब तक मंदिर दोबारा नहीं बन जाता तब तक हमारा प्रदर्शन जारी रहेगा। दिल्ली में और भी कब्जे हैं उन्हें क्यों नहीं तोड़ा जाता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here