बसपा को लगा झटका, रविन्द्र मोल्हू भी हुए भाजपाई

उत्तर प्रदेश में होने वाले उपचुनाव से ठीक पहले सहारनपुर में बहुजन समाज पार्टी को लगा करारा झटका। मायावती  के करीबी रहे पूर्व विधायक रविन्द्र मोल्हू ने अपने समर्थकों सहित बीएसपी को छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया है। यही नहीं बीएसपी के जिलाध्यक्ष ऋषिपाल गौतम ने भी पार्टी का साथ छोड़ दिया है।गांधी जयंती पर रविन्द्र मोल्हू ने लखनऊ में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। गंगोह विधानसभा उपचुनाव से पहले बीएसपी के दो दिग्गजों का यह कदम पार्टी के लिए नुकसानदायक हो सकता है।

अब तक बीएसपी सुप्रीमो मायावती के सबसे करीबी पूर्व विधायक रविन्द्र मोल्हू ही माने जाते थे। ऐसे में उनका बीजेपी में जाना पार्टी के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है। मोल्हू के इस कदम से बीएसपी में खलबली मच गई है। हालांकि बीजेपी जॉइन करने से पहले रविन्द्र मोल्हू ने इतना जरूर कहा कि बीएसपी में उनका दम घुट रहा था क्योंकि पार्टी में कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं है। इसी वजह से वह अपने समर्थको के साथ बीजेपी जॉइन कर रहे हैं।

बसपा ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट

बीएसपी के जिलाध्यक्ष ऋषिपाल गौतम ने पार्टी छोड़ने का जिम्मेवार बीएसपी कोऑर्डिनेटर पर डाल दिया। ऋषिपाल गौतम ने बताया है कि बीएसपी में कोऑर्डिनेटर का व्यवहार अच्छा नहीं रहता है। लखनऊ में बीजेपी कार्यालय पर प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह की मौजूदगी में बीएसपी के ये दिग्गज अपने समर्थकों के साथ बीजेपी में शामिल हो गए। बीएसपी के पूर्व विधायक और जिलाध्यक्ष के इस कदम से बीएसपी ही नहीं अन्य दलों में भी खलबली मच गई है। इस बात के पूरे आसार हैं कि उपचुनाव से ठीक पहले यह कदम गंगोह उपचुनाव को प्रभावित करेगा।

सोचा जा रहा है कि बीजेपी का कुनबा जिले में मजबूत होगा। जबकि यह बसपा और सपा के लिए बेहद चिंता की बात है। सुनने में मिला है कि पूर्व विधायक रविन्द्र उर्फ मोल्हू ने बुधवार को लखनऊ में बीजेपी का दामन थामा है।