बंथरा में हुई महिला की हत्या के दोनों आरोपी गिरफ्तार

बंथरा में एक महिला की हत्या का खुलासा हो गया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी द्वारा अपराधियों  के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान में यह कामयाबी हाथ लगी है। बंथरा में पुराही खेडा के पास एक खेत में महिला की लाश पायी गई थी। मृतक महिला का नाम मोसीना बानो है जो अमेठी ज़िले में थाना जगदीशपुर के अंतर्गत पुरे हामी के पुरवा मौजा इमली गांव की रहने वाली थी। मृतक महिला के पिता का नाम मोहम्मद मुश्ताक अहमद है। मोसीना बानो का निकाह 8 साल पहले मोहम्मद नसीम के साथ हुआ था। शादी होने के बाद मोसीना बानो मुंबई में थाना पवई के अंतर्गत रहने लगीं थी। मोहम्मद नसीम से मोसीना बानो के 3 बच्चे हैं।

मोसीना बानो का मुंबई से लखनऊ आना जाना हो गया था। इसी दौरान उसकी मुलाकात महेंद्र और संदीप से हुई। महेंद्र जिला अमेठी के डी-66 कठौरा कमरौली का रहने वाला है और उसके पिता का नाम राम है। महेंद्र हाल में जिला अमेठी के थाना जगदीशपुर के अंतर्गत भेल कालोनी में रह रहा है। संदीप के पिता का नाम सुमई है जो जिला अमेठी के मुसाफिर खाना तहसील में रहता है। मोसीना बानो जून 2019 से अपने साथी महेंद्र के साथ अमेठी में रहने लगी। मुंबई में रहने वाले मोसीना बानो के पति मोहम्मद नसीम ने अपनी पत्नी को बहुत खोजा लेकिन जब वह नहीं मिली तो पति मोहम्मद नसीम ने थाना पुवई मे एक गुमसुदगी की रिपोर्ट लिखवाया।

कमलेश हत्याकांड के मुख्य आरोपी गिरफ्तार

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार पता चला कि मृतका मोसीना बानो महेंद्र के साथ दादपुर के पास नई कॉलोनी में मकान संख्या में 104 में रहने लगी थी। इस मकान की 9 लाख रूपए में संदीप के नाम पर रजिस्ट्री कराइ गई थी। इस दौरान मोसीना बानो ने अपना नाम बदलकर ख़ुशी रख लिया था। महेंद्र की शादी पहले ही हो चुकी है और वह हफ्ते में 2 या 3 बार मोसीना बानो से मिलने आता था।

हाल ही में करवा चौथ के मौके पर मोसीना बानो ने हिन्दू रीति रिवाज से महेंद्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखा था लेकिन महेंद्र उससे मिलने नहीं पहुंचा जिससे वह गुस्सा हो गई और फोन करके महेंद्र से आत्महत्या करने की धमकी देने लगी। बाद में जब महेंद्र अपने साथी संदीप के साथ घर पहुंचा तो मोसीना बानो की लाश छत पर पंखे से लटकी हुई दिखाई दी। महेंद्र ने संदीप के साथ मिलकर मोसीना बानो की लाश को पुराही खेडा के पास एक खेत में फेंक दिया और दोनों लोग वहाँ से भाग गए। दोनों ने मिलकर एक गाड़ी में मोसीना बानो की लाश को रात के लगभग 1:30 बजे के करीब ठिकाने लगाया।

पुलिस ने इन दोनों अभियुक्तों को दादपुर के देशी ठेका के पास से गिरफ्तार कर लिया है। अभियुक्त महेंद्र के पास से एक मोबाइल फोन बरामद किया गया है जिससे महेंद्र की मृतका मोसीना बानो से बात होती थी। इसके अलावा एक गाड़ी बरामद की गई है जिससे लाश को ठिकाने लगाया गया था। इस गाडी का नंबर UP 36 T 2331 है।