Bhoot Movie Review: फिल्म देख सिनेमा हॉल में ही चीखे-चिल्लाए लोग

Bhoot Movie
google

Bhoot Movie Review: वैसे हॉरर एक ऐसा जॉनर है जिसमें अभी बहुत संभावनाएं तलाशी जानी बाकी हैं। अचानक किसी मूवमेंट के साथ तेज साउंड का आना, शीशे में अचानक किसी साये का प्रकट होना और कमरे में रखे सामान का अपने आप हिलने लगना जैसी चीजें दर्शक पिछले काफी वक्त से देख रहे हैं। धर्मा प्रोडक्शन ने पहली बार हॉरर में कदम रखा है और साथ ही विक्की कौशल की भी पहली हॉरर फिल्म भूत आ चुकी है। ऐसे में जाहिर है कि पब्लिक की उम्मीदों पर खरे उतरना एक बड़ी चुनौती थी। विक्की कौशल और फिल्म के मेकर्स इस चुनौती को किस हद तक पूरा कर पाए हैं? चलिए जानते हैं।

21 फरवरी यानि आज को बड़ा खास मौका मालूम होता है। जहां एक तरफ शिवरात्रि की धूम है वहीं आज के ही दिन सिनेमाघरों में दस्तक दे चुकी हैं इस साल की दो मोस्ट अवेटेड फिल्में ये दोनों ही फिल्में एकदम अलग जॉनर की है। पहली है Ayushman Khurana की ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ जो आर्टिकल 377 पर बेस्ड है और दूसरी फिल्म है Vicky Kaushal की Bhoot यहां हम आपको बताने जा रहे हैं। कैसी है 2020 की सबसे डरावनी फिल्म Bhoot इस फिल्म को देखकर आए लोगों ने अलग-अलग रिस्पॉन्स दिए है।

सोशल मीडिया पर दिए रिव्यूज के मुताबिक फिल्म Bhoot Part One: The Haunted Ship सही जगह पर हिट करती मालूम होती है। लोगों ने पोस्ट में बताया है कि ये फिल्म उन्हें डराने में कामयाब रही है। एक यूजर ने अपना रिव्यू शेयर करते हुए लिखा है कि Bhoot फिल्म हिंदी हॉरर फिल्म का अभूतपूर्व मुकाम तक ले जाती है। बुरी तरह कंपा देने वाली फिल्म एक मजबूत स्टोरीलाइन के साथ आगे बढ़ती है। इस जॉनर को नई परिभाषा देने वाली ये फिल्म बाकियों में एकदम हटके मालूम होती है। Vicky Kaushal की रोंगटे खड़े कर देने वाली परफॉर्मेंस’ देखकर कुछ लोगों ने सिनेमाघरों में ही फिल्म देखते हुए इसका रिव्यू शेयर किया है।

जाने क्या है Bhoot फिल्म की कहानी

सच्ची घटना पर आधारित ये फिल्म हकीकत का दामन थाम कर उड़ान भरती है और आपको कल्पनाओं के उस आसमान में ले जाती है। जहां आपको सब कुछ हकीकत ही लगने लगता है। एक हॉरर फिल्म के सामने दो सबसे बड़ी चुनौतियां होती हैं। पहली ये कि फिल्म आपको डरा पाए और दूसरी ये कि आपको ये बोर या बोझिल नहीं लगे। Vicky Kaushal की फिल्म में ये दोनों ही पहलू मौजूद हैं।

दरअसल फिल्म की कहानी तब शुरू होती जब एक हादसे में अपनी छोटी बेटी और पत्नी Bhumi Pednekar को खो चुका पृथ्वी Vicky Kaushal अब मुंबई में अकेला रहता है और शिपिंग ऑफिसर की नौकरी करता है। पृथ्वी खुद को अपनी पत्नी और बेटी की मौत का जिम्मेदार मानता है इसलिए उसमें इस बात का गिल्ट हमेशा बना हुआ है। वो हर वो काम करता है जिससे वो किसी बच्ची या किसी औरत की मदद कर सकता है।

पृथ्वी के दिमाग पर ये ट्रॉमा इस हद तक है कि उसे अपनी पत्नी और बेटी दिखाई देते हैं। वह डॉक्टर से अपने हैलोसिनेशन्स का इलाज तो करवा रहा है। लेकिन दवाइयां नहीं लेता ताकि उसकी पत्नी और उसकी बेटी उसे हमेशा ऐसे ही नजर आते रहें। पृथ्वी का दोस्त रियाज उसे हमेशा ये सब करने के लिए टोकता रहता है। लेकिन पृथ्वी नहीं मानता सब कुछ ठीक चल रहा है और एक दिन अचानक समंदर किनारे एक सुनसान जहाज सी-बर्ड आकर खड़ा हो जाता है।

Bhoot Full Movie Download Leaked by TamilRockers

सी-बर्ड के बारे में तमाम किस्से हैं। इस जहाज के अचानक समंदर किनारे यूं आ जाने से मुंबई की जनता में खलबली है। लिहाजा पृथ्वी की कंपनी पर इस जहाज को वहां से हटाने का दबाव बढ़ जाता है। जिम्मेदारी पृथ्वी पर आती है और वह जब जहाज का मुआइना करने जाता है तो उसके साथ तमाम अजीब चीजें होना शुरू हो जाती हैं। पृथ्वी जब थोड़ी जांच पड़ताल करता है तो उसके सामने आती है रोंगटे खड़े कर देने वाली एक पहेली जिसे वो सुलझाने में लग जाता है।

पहेली के सुलझने के साथ-साथ सुलझना शुरू होती है वो कहानी जो आपको बांध कर रखती है। कहा जा सकता है कि कॉन्सेप्ट नया है। फिल्म के बीच-बीच में छोटे-छोटे जोक्स हैं जो कहानी को बहुत बोझिल होने से रोकते हैं। सी-बर्ड का वो सीक्रेट क्या है जो लोगों की जान ले रहा है? क्या Vicky Kaushal का इस जहाज से कोई पुराना कनेक्शन है? क्या इस हॉन्टेड शिप का भूत Vicky Kaushal की जान ले लेता है या उन्हें जाने देता है? यही फिल्म की कहानी है। अब आगे क्या होगा क्या पृथ्वी इन सारी पहेलियों को सुलझा पायेगा। आगे की कहानी जानने के लिए फिल्म देखना बहुत जरुरी है।

जाने देखने लायक है या नहीं Bhoot फिल्म ?

फिल्म में Vicky Kaushal का अभिनय कमाल का है और कहा जा सकता है कि उन्होंने एक बार फिर से खुद को एक अच्छे अभिनेता के तौर पर साबित किया है। Bhumi Pednekar और आशुतोष राणा का रोल भी छोटा है लेकिन उन्होंने अपना काम बखूबी किया है। हॉरर फिल्म है इसलिए ये सवाल आना जाहिर है कि क्या ये फिल्म आपको डरा पाती है? जवाब है हां. किसी भी हॉरर फिल्म में ग्राफिक्स और वीएफएक्स बहुत मायने रखते हैं और इनका काम फिल्म में काबिल-ए-तारीफ है. फिल्म के कई सीक्वेंस ऐसे हैं जब आपके रोंगटे खड़े हो जाते हैं और आप एक पल के लिए सन्न रह जाते हैं।

म्यूजिक और गाने

फिल्म के म्यूजिक और बैकग्राउंड स्कोर की बात करें तो पूरी फिल्म में सिर्फ एक ही गाना है जो इसकी शुरुआत में आता है। गाने का म्यूजिक और लिरिक्स कमाल के हैं और ये दर्शकों को पहले ही काफी पसंद आ चुके हैं। जहां तक बात है फिल्म के बैकग्राउंड स्कोर की, जो कि किसी भी हॉरर फिल्म में काफी महत्वपूर्ण होता है। तो कहा जा सकता है कि ये आपको इंप्रेस कर ले जाता है।बारीक चीजों का ध्यान रखा गया है और क्रिएटिव लेवल पर चीजें इंप्रेसिव हैं।

फिल्म की कहानी दमदार है और आपकी उम्मीदों पर खरी उतरती है लेकिन धर्मा प्रोडक्शन ने इसमें एक देसीपन भी रखा है. आशुतोष राणा का मंत्रोच्चारण करना और आत्मा की मुक्ति के लिए कुछ करना जैसे कॉन्सेप्ट फिल्म में रखे गए हैं। कहा जा सकता है कि फिल्म का हॉरर भले ही इंटरनेशनल लेवल का हो लेकिन इसका क्लाइमैक्स काफी देसी रखा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here