सेना प्रमुख बिपिन रावत छात्रों द्वारा किये गए हिंसक प्रदर्शनों पर बोले

army chief
image source - google

CAA दोनों सदनों में पास होने के बाद से देश में कई जगह लोगों ने प्रदर्शन किये और कुछ विश्वविद्यालयों व कॉलेज के छात्रों ने प्रदर्शन किया और कुछ जगह ये प्रदर्शन हिंसक भी हुए, जिसमे पुलिस और आम नागरिक भी घायल हुए व करोड़ों की संपत्ति का भी नुकसान हुआ। इसी मामले पर बात करते हुए सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा की हाल के दिनों में हमने देखा की कैसे बड़ी संख्या में छात्र कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से निकले व आगजनी और हिंसा करने के लिए लोगों की भीड़ का नेतृत्व किया। आगजनी और हिंसा करना नेतृत्व करना नहीं है। जो हिंसा करने वाले लोगों का नेतृत्व कर रहे है वे नेता नहीं है। आगे सेना प्रमुख ने कहा की नेतृत्व करना आसान काम नहीं है ये कठिन काम है। क्योंकि जब आप आगे बढ़ते है कुछ करने के लिए तो लोग भी आगे बढ़ते है और उसे फॉलो करते है। बता दें बीते दिनों में कई शहरो व राज्यों में CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए लोग सड़कों पर आये और कुछ प्रदर्शनों में वाहनों को तोडा और हिंसा फ़ैलाने की कोशिश की गयी।

फिर से बौखलाया पाकिस्तान,CAA पर इमरान की भाषा बोले शाहिद अफरीदी

जवानों की फ़िक्र

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा की हम सब अपने आप को ठण्ड से बचाने के लिए गर्म कपडे पहने हुए है। ये देखकर मुझे अपने उन सभी जवानो की याद आ रही है, जो सियाचिन में सॉल्टोरो रिज और अन्य उचाई वाले स्थानो पर सीमा की रक्षा के लिए खड़े है। बता दें सियाचिन में तापमान -10 डिग्री से -55 डिग्री तक चला जाता है और ये इतना है की शरीर के खून को 1 मिनट में जमा सकता है। इतनी कड़ाके की ठण्ड में जवान देश की रक्षा के लिए खड़े रहते है।