अल इमाम वेलफेयर व पदम संस्था ने अंबेडकर को किया याद

google

भारतरत्न पुरस्कार से सम्मानित तथा देश के संविधान के रचयिता बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि के मौके पर अल इमाम वेलफेयर एसोसियेशन व पदम संस्था ने राजधानी लखनऊ के हजरतगंज में स्थित उनकी प्रतिमा पर पहुंच कर उनको याद किया। इस दौरान इन दोनों संस्थाओं के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौजूद रहे।

अल इमाम वेलफेयर एसोसियेशन के अध्यक्ष इमरान हसन सिद्दीकी ने लोगों को संबोधित करते हुए बताया कि आज हमे बाबा सहाब के आदर्शो पर चलने की ज़रूरत है तथा उनके लिखे संविधान को समझने के अलावा इसपर अमल होगा तब कहीं हमारा देश उन्नति और विकास के रास्ते पर बढ़ेगा। ऐसा इसलिए आवश्यक है क्यूँकि कुछ लोग इस सर्वसमानता वाले इस संविधान को हटाने की कोशिश कर रहे हैं और देश में जिस कानून को वह लोग लाना चाहते हैं उसमे दबे कुचले और पिछड़े वर्ग के लोगो के लिये उनके हक़ की कोई बात नही कि जाएगी तथा यह संविधान रूढ़िवादी बातो पर निर्भर होगा।

इमरान हसन सिद्दीकी ने आगे कहा कि इसलिये मै देश के हर उस व्यक्ति से अपील करता हू कि जो अंबेडकर के लिखे हुए संविधान को देश हित में तथा दबे कुचले और पिछड़े हुए लोगों की आवाज़ मानता है वह अपनी ज़िम्मेदारी को समझे व उनके लिखे संविधान के प्रति जागरूक हो। साथ ही दूसरो को भी इसके प्रति जागरूक करे ताकि इस संविधान के ख़िलाफ़ उठने वाली ताकतों को दबाया जा सके।

पदम संस्था के अध्यक्ष डीके आनन्द ने इस मौके पर लोगों से कहा कि हम सभी लोगों को बाबा साहेब की दी गई कुर्बनिओ का ध्यान रखना चाहिए और सोचना चाहिए कि क्या हम लोग संविधान के हिसाब से अपना जीवन गुज़ार रहे हैं। हम लोगों को अब यह शपथ लेनी होगी कि हम अपने संविधान की रक्षा हर हाल में करेंगे चाहे कोई भी हमलावर हो। आज के हालात को देखते हुए लग रहा है कि केन्द्र सरकार योजना बना कर संविधान के ख़िलाफ़ और संविधान की बात करने वाले के ख़िलाफ़ योजना बना कर कार्य कर रही है।

भीमराव अंबेडकर के सपने को हमारी सरकार पूरा करने में लगी हुई है-सीएम योगी

डीके आनन्द ने साथ ही कहा कि यदि हमें भीमराव अंबेडकर के लिखे हुए संविधान की ज़रा सी भी इज़्ज़त है या भीमराव अंबेडकर की दी हुई कुर्बनिया ज़रा सी भी याद हैं तो इस तरह के संविधान विरोधी लोगो के ख़िलाफ़ हम लोगों को खड़ा होना चाहिए। हमारे सामने चाहें कोई भी हो और उन लोगों को देश की सत्ता से बाहर कर देना चाहिए और देश को ऐसे लोगों को सौंपना चाहिए संविधान का सही ढंग से पालन करें जिससे देश कामयाब और विकसित हो सके।

अल इमाम वेलफेयर एसोसियेशन व पदम संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्षों के सम्बोधन के दौरान दोनो संस्थाओ के पदाधिकारियों तथा सदस्यों ने शिरकत किया।