देर रात चर्चा के बाद बीजेपी और अपना दल ने प्रतापगढ़ सीट पर लिया फैसला

प्रतापगढ़ की विधानसभा सीट पर भाजपा व अपना दल (सोनेलाल) के बीच प्रत्याशी को लेकर चल रही समस्या का निवारण रविवार की देर रात तक कर लिया गया। अपना दल पार्टी के द्वारा राजकुमार पाल को प्रत्याशी घोषित कर दिया गया है। वह भाजपा के जिला सचिव हैं।

प्रतापगढ़ में सदर सीट पर 2017 के हुए विधानसभा चुनाव में अपना दल पार्टी के उम्मीदवार संगम लाल गुप्ता चुनाव जीते थे। वही संगम लाल गुप्ता 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के टिकट पाकर सांसद बन गए। इन सबके बाद अब इस सीट पर उपचुनाव हो रहा है।

प्रदेश भाजपा की चाह थी कि प्रतापगढ़ सीट वह खुद ही लड़े। भाजपा ने रविवार की दोपहर में 10 सीटों पर प्रत्याशियों का एलान किया और 11वीं सीट (प्रतापगढ़) अपना दल (एस) के लिए छोड़ी। अपना दल (एस) के हिस्से में सीट जाने के बाद भी भाजपा चाहती थी कि उसी के किसी नेता को अपना दल का प्रत्याशी बनाया जाए। अपना दल का विचार इसके विपरीत था उनके हिसाब से वह अपने किसी नेता को चुनाव लड़ाना चाहता था।

यूपी में कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, भाजपा में शामिल हुई राजकुमारी रत्ना सिंह

इन सभी बातो को सोचने समझने के बाद देर रात इस बात पर चल रहा विवाद सुलझा लिया गया। इस विवाद को खत्म करते हुए पिछड़ी जाति के राजकुमार पाल के नाम पर दोनों दलों की सहमति के साथ प्रत्याशी बनाया गया। राजकुमार पाल भाजपा पार्टी के जिला सचिव हैं। प्रदेश इकाई के विरोध होने के बावजूद भी अपना दल ने सीट अपने खाते में लेकर भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व से नजदीकी बढ़ाए रखने का संदेश दिया है। वहीं दूसरी ओर, प्रदेश भाजपा अपने नेता को अपना दल के सिंबल पर चुनाव लड़वाने को अपनी उपलब्धि के तौर पर देख रही है।