सुनवाई पूरी होते ही अयोध्या में बुलाया गया अतिरिक्त पुलिस बल

  • रामजन्मभूमि के अधिग्रहित परिसर को अलग-अलग जोन में गया बंटा
  • रामकोट में बिना पास वाले वाहनों का प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी होने के बाद ही काशी और मथुरा सहित पूरा अयोध्या छावनी में तब्दील हो गया और प्रदेश भर में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। अयोध्या में अतिरिक्त पुलिस बल बुलाया गया है जो 20 अक्टूबर तक पहुँच सकता है। अयोध्या में कारसेवकों की भीड़ को रोकने के लिए जो सुरक्षा चौकियां बनाई गई हैं उनको बहाल कर दिया गया है। और रामकोट इलाके में बिना पास वाले वाहनों के प्रवेश को पूरी तरह से प्रतिबंधित कर दिया गया है। अयोध्या में सभी बैरियरों की मरम्मत करवा कर पुलिस के जवानों को तैनात कर दिया गया है।

अयोध्या के विवादित स्थल पर रामजन्मभूमि के अधिग्रहित परिसर को अलग-अलग जोन में बाँट दिया गया है। मेक शिफ्ट स्ट्रक्चर में विराजमान रामलला आइसोलेशन जोन में आइसोलेशन जोन की सुरक्षा के लिए केन्द्रीय सुरक्षा बल तैनात किया गया है और 70 एकड़ के अधिग्रहीत परिसर के रेड जोन में सुरक्षा के लिए थ्री टीयर बैरिकेडिंग का घेरा तैयार किया गया है। इसके साथ ही अधिग्रहीत परिसर के बाहर सम्पूर्ण पंचकोसी परिक्रमा मार्ग को येलो जोन घोषित कर दिया गया है जहां सिविल पुलिस तैनात की गई है।

अयोध्या राम मंदिर पर राम विलास वेदांती का बड़ा बयान, कांग्रेस के बारे में कही ऐसी बात

अयोध्या में तगड़ी सुरक्षा के मद्देनज़र शासन से 10 एएसपी, 25 डिप्टी एसपी, 25 इंस्पेक्टर , 125 दरोगा, 700 सिपाही, 45 महिला दरोगा, 100 महिला सिपाही, 6 कंपनी पीएसी, 2 कंपनी आरएएफ, एक कंपनी बाढ़ राहत पीएसी को भी माँगा गया है। अयोध्या के डीएम अनुज कुमार झा का कहना है कि “जिले की सुरक्षा व्यवस्था के लिए रणनीति बनाकर कार्यवाही की जा रही है। किसी भी दशा में कानून व्यवस्था को बिगड़ने नहीं दिया जाएगा। साथ ही ऐसा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाएगी”। साथ ही अयोध्या के आईजी ने बताया कि “रामजन्मभूमि की सुरक्षा को अपग्रेड किया गया है। इसके अलावा अतिरिक्त फोर्स की डिमांड की गई है। हालांकि उन्होंने अन्य किसी प्रकार का इनपुट मिलने से इनकार किया है”।