क्या इसे ही कहते है बदकिस्मती ?

google

टीवी सीरियल ‘चिड़ियाघर’ के मेंढक प्रसाद यानी मनीष विश्वकर्मा तो आपको याद ही होंगे। जून 2015 में सड़क एक्सीडेंट में गंभीर रूप से घायल हुए थे। इसके बाद उन्हें ब्रेन हेमरेज हो गया और वे कोमा में चले गए थे। 22 साल के मनीष अब कोमा में तो नहीं है, लेकिन नॉर्मल लाइफ जीने के लिए आज भी स्ट्रगल कर रहे हैं। परिवार अपनी पूरी जमा पूंजी के साथ कर्ज लेकर लाखों की रकम उनके इलाज में लगा चुका है। उनके परिवार को आर्थिक मदद की जरूरत है, ताकि वे बेटे को पूरी तरह रिकवर कर सकें।

एक हादसे ने बदल दी जिंदगी 

दरअसल 28 जून 2015 को मनीष बाइक से ‘चिड़ियाघर’ की शूटिंग के लिए गोरेगांव जा रहे थे। तभी वहां स्थित आरे कॉलोनी में उनका एक्सीडेंट हो गया। इसके बाद उन्हें कोकिलाबेन हॉस्पिटल और फिर सिटी केयर हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। जब से उनका एक्सीडेंट हुआ है वे दवाइयों पर नहीं हैं, बल्कि मेडिटेशन और फिजियोथेरेपी के बल पर जिन्दा हैं।

शायद इसे ही कहते है नरक 

इसे बदकिस्मती कहें या फिर कुछ और एक ऐसा एक्टर जिसने अपनी एक्टिंग से घर-घर में हर वर्ग के लोगों में पहचान बना ली थी और लोगों का प्यार भरपूर मिलने लगा था एक मनहूस दिन ने उससे एक ही झटके में सब छीन लिया।काम तो हाथ से गया ही बेचारा आज भी उस 4 साल पहले हुए एक्सीडेंट से अपनी नार्मल लाइफ भी नहीं जी पा रहा है।

‘द फैमिली मैन’ ,रोजमर्रा जिंदगी से प्रेरित वेब सीरीज

कभी था मशहूर कलाकार 

आपको बता दे की सब टीवी पर आने वाले टीवी धारावाहिक ‘चिड़ियाघर’ के मशहूर कलाकार मनीष विश्वकर्मा की जिन्हे लोग घर-घर में मेंढक के नाम से जानते थे । दरअसल इस धारावाहिक में सारे किरदारों का नाम जानवरों पर ही था और मनीष विश्वकर्मा इसमें ‘गधा प्रसाद (जीतू शिवहरे) के छोटे भाई मेंढक प्रसाद का रोल कर रहे थे।

लोगो के चेहरे पर हँसी लाने वाले की भगवान ने ही हँसी छीन ली 

मनीष विश्वकर्मा ने लोगों का तो खूब मनोरंजन किया लेकिन एक दिन इस कलाकार की हंसी एक गहरे सदमें मे बदल गई और अब वो खुद बड़े सदमें में जी रहा है। एक्सीडेंट के कारण उन्हें ब्रेन हेमरेज हो गया था और वो कोमा में चले गए थे। आज मनीष कोमा से तो बाहर हैं लेकिन नॉर्मल लाइफ जीने के लिए अब भी संघर्ष कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here