मुनीम लूट हत्या काण्ड का खुलासा

यूपी के देवरिया में बदमाशो ने लूट के बाद व्यापारी मुनीम की गोली मारकर हत्या कर दी। बदमाशों ने गोली इसलिए चलाई क्योकि व्यापारी द्वारा यह कह दिया गया कि जाओ भाग कर कहा जाओगे हमने पहचान लिया है। पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा कर लिया है। पुलिस ने मुख्य आरोपी समेत तीन को गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से हत्या में प्रयुक्त पिस्टल, लूट के एक लाख दस हजार कैश बरामद किया। पकड़े गए बदमाशो ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। मुनीम की हत्या उसके साथी व्यापारी ने ही कराई थी।

एस.पी श्रीपति मिश्र ने बताया की सुभाष मद्देशिया, बैजनाथ और रमाशंकर जायसवाल तीनो 65 की उम्र के है। जिसमे से बैजनाथ कुशीनगर जिले का रहने वाला है। 7 सितंबर को दोनो गल्ला व्यवसाई सुभाष और बैजनाथ ट्रेन से बिहार के दरभंगा वसूली के लिए निकले थे और वसूली कर वापस लखनऊ बरौनी से आ गए। इधर बैजनाथ ने रमाशंकर से बात करते हुए बताया कि व्यवसाय में इस बार हम लोगों को घाटा हुआ है। वहीं सुभाष के पास 9 लाख 70 हजार रुपये हैं इसे लूटकर आपस मे बांट लेंगे। हम लोग तीन बजे देवरिया पहुँच जाएंगे।

रामगोपाल हत्याकाण्ड मे घोषित बीस हजार का इनामिया गिरफ्तार

दरभंगा से बैजनाथ ट्रेन के दूसरे डिब्बे में चढ़ गया था। सुभाष मद्देशिया ट्रेन से उतरकर प्लेटफार्म पर ही सो रहा था। फिर बैजनाथ ने दो बदमाशो को बुलाकर सुभाष की पहचान कराई, जबकि अविनाश जो रमाशंकर का लड़का है कुछ दूरी पर खड़ा था। साढ़े चार बजे के लगभग सुभाष मद्देशिया उठ कर बाहर पंजाब नेशनल बैंक के पास माल गोदाम के सामने पहुंचा ही था कि बाइक सवार दो बदमाशों ने बैग छीन लिया। और वहीं तीसरा साथी कुछ दूरी पर खड़ा था। बैग छीन कर भाग ही रहे थे कि मृतक ने कहा जाओ हम पहचान लिए है इसपर बदमाशों ने मुड़कर गोली मारकर फरार हो गए।