जहरीली वायु के बढ़ते प्रभाव के कारण 40 प्रतिशत लोग दिल्ली छोड़ने पर है मजबूर

भारत देश की राजधानी दिल्ली में जहरीली हवा के बढ़ते प्रभाव के कारण दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले लगभग 40 %  प्रतिशत लोगो ने दूसरे शहर में जाकर रहने की बात कही है। उन लोगो का कहना है की नौकरियों या अन्य वजहों के चलते वे लोग दिल्ली में रहने पर मजबूर है बता दे की प्रदूषण के चलते हालात ऐसे हैं कि कई लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो कई आंखों में जलन से परेशान हैं। क्योकि जहरीली हवाओं ने दिल्ली को बीमार कर दिया हैऔर राजधानी का प्रदूषण जानलेवा बन चुका है।

40 % लोग राजधानी छोड़ने पर मजबूर

इन जहरीली हवाओं के चलते इस बीच एक नए सर्वेक्षण के मुताबिक, वायु प्रदूषण के कारण दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एनसीआर के 40 प्रतिशत से अधिक निवासी शहर छोड़ कर कहीं और बसना चाहते हैं जबकि 16 प्रतिशत निवासियों ने इस दौरान शहर से बाहर घूमने की इच्छा प्रकट की। दिल्ली और एनसीआर के 17 हजार निवासियों पर किए गए सर्वेक्षण में यह सामने आया कि 13 प्रतिशत लोग यह मानते हैं कि उनके पास प्रदूषण को झेलने के अतिरिक्त और कोई चारा नहीं है।

13 प्रतिशत लोगो के पास प्रदूषण झेलने के अलावा और कोई चारा नहीं

बता दे की दिल्ली में (ऑनलाइन संस्था ‘लोकल सर्कल’) द्वारा किए गए सर्वे में पता चला है किलगभग 40 प्रतिशत लोग दिल्ली छोड़कर कहीं और बसना चाहते हैं जबकि 31 प्रतिशत निवासी यहीं रहकर प्रदूषण से बचाव के उपाय अपनाना चाहते हैं। सर्वेक्षण में पाया गया कि 16 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे स्थाई तौर पर दिल्ली में ही निवास करेंगे लेकिन प्रदूषण अधिक होने के दौरान कहीं बाहर घूमना चाहेंगे। वहीं, 13 प्रतिशत लोगों का मानना है कि उनके पास प्रदूषण को झेलने के अलावा कोई चारा नहीं है। 44 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उन्हें स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हैं लेकिन उन्होंने किसी डॉक्टर या अस्पताल में जांच नहीं करवाई है। केवल 14 प्रतिशत निवासियों का मानना है कि प्रदूषण से उनकी सेहत पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है।

जहरीली वायु के कारण बढ़ी जन स्वास्थ आपदा

बता दे की रविवार की सुबह हल्की बारिश होने के बावजूद दिल्ली में जहरीली वायु का स्तर ‘गंभीर’ रहा। पर्यावरण प्रदूषण प्राधिकरण ने दिल्ली में शुक्रवार को जन स्वास्थ्य आपदा घोषित कर दी थी। जिसके बाद राज्य सरकार ने स्कूल बंद करने के आदेश दिए थे। ईपीसीए ने दिल्ली-एनसीआर में पांच नवंबर तक निर्माण कार्यों पर रोक लगा दी है। वाहनों को लेकर दिल्ली सरकार की सम-विषम योजना सोमवार से लागू हो गई है।