निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने के लिए ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस पर सरकार दे रही बल

pm modi in west bengal
image source - google

रक्षा सेक्टर में बजट प्रावधानों के कार्यान्वयन पर वेबिनार में पीएम मोदी ने कहा कि भारत के पास हथियार और मिलिट्री इक्विपमेंट बनाने का सदियों पुराना अनुभव है। आज़ादी के पहले हमारे यहां सैकड़ों ​ऑर्डिनेंस फैक्ट्री होती थीं। दोनों विश्वयुद्ध में भारत से बड़े पैमाने पर ​हथियार बनाकर भेजे गए थे।

लेकिन आज़ादी के बाद अनेक वजहों से इस व्यवस्था को उतना मजबूत नहीं किया गया, जितना किया जाना चाहिए था। हालत ये है कि छोटे हथियारों के लिए भी हमें दूसरे देशों की तरफ देखना पड़ता है। आज भारत रक्षा क्षेत्र में विश्व के सबसे बड़ा आयातक में से है।

एक समय था, जब हमारे अपने लड़ाकू विमान तेजस को फाइलों में बंद करने की नौबत आ गई थी। लेकिन हमारी सरकार ने अपने इंजीनियरों, ​वैज्ञानिकों और तेजस की क्षमताओं पर भरोसा किया और आज तेजस शान से आसमान में उड़ान भर रहा है।

पीएम मोदी असम और पश्चिम बंगाल के दौरे के लिए हुए रवाना

आज़ादी के बार पहली बार रक्षा क्षेत्र में निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने पर इतना जोर दिया जा रहा है। निजी क्षेत्र को आगे लाने के लिए सरकार उनके ईज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस पर बल दे रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here