आँख फड़कना। आँख फड़कना कैसे रोंके

आँख फड़कना
आँख फड़कना

दोस्तों मैं आपको बता दूँ की आँख फड़कना कोई बीमारी नहीं है। अगर  आपकी भी आँख फड़कती है तो इससे आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है। अक्सर जब हम ज्यादा थक जातें हैं तो ये लक्षण देखने को मिलते हैं। हम इस लेख में विस्तार से समझेंगे की आँख क्यों फड़कती है और आँख का फड़कना कैसे रोक सकते हैं।

आँख फड़कना क्या है ?

आँख का फड़कना (aankh ka fadakna ) आँख की मांसपेशी या फिर पलक की ऐंठन या गति है जिसको नियंत्रित करना किसी के बस  में नहीं है। आँख फड़कना एक आम बात है , और यह किसी भी प्रकार के चिंता का कारण नहीं है। बल्कि , कुछ ऐसी स्थितियां हैं जो आँख का फड़कने का कारण बनती हैं , जिनमें आप मायोकीमिया को शामिल कर सकते है,जो की बहुत ही नार्मल बात है। यह अक्सर तनाव , थकान , या अधिक कैफीन लेने से होता है। आपकी आँख फड़कने का कारण ब्लेफेरोस्पाज्म भी हो सकता। ये लक्षण पलकें झपकने से प्रारम्भ होती है और इससे आपकी बंद भी हो सकती है।  आँखों के फड़कने का कारण डायस्टोनिया जैसे क्रोनिक मूवमेंट डिसऑर्डर का संकेत हो सकता है , इसकी वजह से मांसपेशियां अपने आप सिकुड़ती है और अपने आप फैलती है।  

जानें आँख कितने प्रकार से फड़कती हैं। Type of Eye Twitching

आपने अक्सर महसूस किया होगा या फिर किसी से सुना होगा कि किसी कि आँख सीधा फड़कती हैं तो कोई कहता है उसकी उल्टी आँख फड़क रही है , इस प्रकार से आँख फड़कने कुछ सामान्य प्रकार हैं :

जब आपकी आँखें हल्का सा फड़कती हैं तो यह अक्सर थकान , तनाव या कैफीन जैसी चीजों से होता है। यह समस्या जलन के कारण भी हो सकती है। 

पलक मायोकीमिया में ऊपर और नीचे कि पलकें शामिल होती हैं। लेकिन एक समय में केवल ही आँख पर यह घटना घटित होती है। दोनों एक साथ नहीं हो सकती हैं। यह घटना जल्दी सही हो जाती हैं लेकिन कुछ घंटों या कुछ समय बाद फिर से यह प्रक्रिया हो सकती है। 

ब्लेफेरोस्पाज्म :ब्लेफेरोस्पाज्म यह अकसर वयस्कता में दिखाई देता है और समय के ख़राब हो जाता है।  अमेरिका में देखा जाये तो लगभग २,००० लोगों में इसका निदान किया जाता है।  इसमें लगातार पलकें झपकाने और आँखों में जलन सी होती है।  आपकी प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता बढ़ सकती है, आप धुंधली दृष्टि प्राप्त कर सकते हैं और चेहरे में विवेकशीलता हो सकती है। यह ऐंठन इतनी गंभीर हो सकती है कि आपकी पलकें कई घंटों तक बंद रह सकती हैं।

माइग्रेन सिंड्रोम : माइग्रेन सिंड्रोम एक प्रकार की सिरदर्द या माइग्रेन है जिसमें व्यक्ति को अक्सर बार-बार तेजी से होने वाले दर्द का सामना करना पड़ता है। इसमें दर्द के साथ-साथ अन्य लक्षण भी हो सकते हैं जैसे कि उल्टी, बाहरी आवाजों और प्रकाश के प्रति अत्यधिक संवेदनशीलता आंखों के पीछे की अंधकार आदि।

हेमीफेशियल (Hemifacial) : हेमीफेशियल शब्द एक चिकित्सा शब्द है जो वह स्थिति दिखाता है जब किसी व्यक्ति के आंख, मुंह, और चेहरे का एक हिस्सा अनियंत्रित हो जाता है, अक्सर यह एक पक्षीय लक्षण के रूप में है। यह सामान्यत: अजीब और असामान्य लक्षण होता है और कभी-कभी तंत्रिका असंतुलन के कारण हो सकता है।

जानें आँख फड़कने के क्या कारण हो सकते हैं | Reason of eye twitching

मस्तिष्क या चेहरे की मांसपेशियों में किसी भी असामान्य संकेत के कारण आपकी पलकें फड़क सकती हैं। रोजमर्रा की ये कुछ चीजें  हैं जो उनमें शामिल हो सकती हैं ।  

  • थकान 
  •  कैफीन 
  • अधिक तनाव 
  • निर्जलीकरण 
  • शराब 
  • धूम्रपान 
  • प्रकाश संवेदन शीलता 
  • कुछ मेडिसिन जो मिर्गी या माइग्रेन का इलाज करतीह हैं। 

सम्बंधित : जानें महिलाओं एवं पुरुषों में आँख फड़कने के शुभ और अशुभ संकेत

यह कम होता है, लेकिन मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र के कुछ गड़बड़ी भी पलक फड़कने का कारण बन सकते हैं। इसमें शामिल हो सकते हैं:

 

  • मस्तिष्क क्षति 
  • मल्टीप्ल स्केलेरोसिस 
  • चेहरे का पक्षाघात 
  • दुस्तानता 
  • पार्किसंस रोग 
  • टॉरटी का सिंड्रोम 
  • स्पास्मोडिक टॉर्टिकोलिस 

अगर आपकी आँखों में कुछ समस्या है तो वे भी आपकी आँखों का फड़कन या फड़कन में वृद्धि का कारण बन सकती है :

  • आँखों पर जोर 
  • आँखों में जलन 
  • आँख का लाल होना 
  • यूवाइटिस 
  • पलकों की सूजन

पलक फड़कने की जटिलताएँ: ध्यान दें

आपने देखा होगा की किसी को पूरे दिन आँखों में ऐंठन की समस्या होती है।वो समस्या दिनों , हफ़्तों या फिर महीनों तक चल सकती है।  इससे आपका ध्यान भटक सकता है और आपके जीवन की क्षमता को प्रभावित कर सकती है |

इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें यदि :

  • यदि आपकी आँख फड़कती रहती है या आँख का फड़कना(aankh ka phadakna) लगातार एक सप्ताह से अधिक समय तक रहता है। 
  • यदि आपकी आँखों की पलकें पूरी तरह से बंद हो जाती हैं। 
  • ऐंठन में चेहरे की और भी मांसपेशियां शामिल होती है। 
  • यदि आपकी आँखों में लालिमा लिए हुए सूजन या स्राव हो रहा है। 
  • यदि आपकी पूरी पलक झुक जाती है। 

अगर आपके डॉक्टर को मस्तिष्क या तंत्रिका संबंधी समस्या का संदेह है, तो वे आपके अन्य सामान्य लक्षणों की जांच करेंगे। फिर वे आपको न्यूरोलॉजिस्ट जैसे किसी विशेषज्ञ के पास भेज सकते हैं।

जानें आँख फड़कना कैसे रोकें

अधिकांश हमारे शरीर की छोटी – मोटी मरोड़ें अपने आप सही हो जाती हैं।  आँखों का फड़कना तुरंत रोकने के लिए हमें भरपूर आराम करना की आवश्यकता होती है और गर्म पट्टी लगाने और शराब , तम्बाकू और कैफीन का सेवन काम करने से मदद मिल सकती है। 

सौम्य आवश्यक ब्लेफेरोस्पाज्म का कोई चिकित्सा समाधान नहीं है। आपके डॉक्टर आपके लक्षणों को कम करने में सहायक हो सकते हैं। सबसे सामान्य उपचार बोटुलिनम टॉक्सिन (जैसे कि बोटॉक्स, डिस्पोर्ट, ज़ीओमिन) होता है। यह हेमीफेशियल ऐंठन का भी इलाज कर सकता है।

आँखों की ऐंठन को काम करने के लिए आपका डॉक्टर आपकी आँखों की मांसपेशियों में हल्का सा इंजेक्शन लगाएगा और इस इंजेक्शन का प्रभाव कुछ महीनों तक रहता है फिर यह धीरे – धीरे ख़त्म हो जाता है।  ऐसे में आपको एक से अधिक उपचार की आवश्यकता होगी |

इस तरह के छोटे मामलों में डॉक्टर दवाओं का सुझाव दे सकता है जैसे कि : 

  • क्लोनाज़ेपम(क्लोनोपिन)
  • लोरजेपम(एटीवान)
  • ट्राइहेक्सीफेनिडिल हाइड्रोक्लोराइड (आर्टेन, ट्राइहेक्सेन, ट्राइटेन)

ये थोड़ी ही समय के लिए राहत प्रदान करते हैं। 

जानें अपनी लाइफ को कैसे हेल्थ फुल बनाएं।

About Author

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

19 + seventeen =